News Flash
discussion tea

चंबा जनमत निर्माण अभियान में जुड़ा एक और मुद्दा

हस्ताक्षर अभियान के सफल आयोजन के बाद होगा चाय पर मंथन

हिमाचल दस्तक। चंबा
जिले की मुख्य मांगों, समस्याओं और मुद्दों के समाधान के लिए हस्ताक्षर अभियान के सफल आयोजन के बाद अब चंबा जनमत निर्माण अभियान के तहत चाय पर भी चंबा की चर्चा होगी। इसकी शुरुआत वीरवार को कर दी गई। चर्चा के दौरान मुख्य मुद्दा यही रहने वाला है कि चंबा के पिछड़ेपन के लिए जिम्मेदार कौन? सरकार, प्रशासन, जन प्रतिनिधि या फिर लोग। वीरवार को चर्चा का हिस्सा बने तमाम लोगों ने अपने-अपने हिसाब से अपनी राय रखी।

अधिकतर लोगों ने यही कहा कि चंबा की तरक्की के लिए राजनीतिक इच्छा शक्ति का अभाव होने के कारण ही इस जिले से पिछड़ेपन का तमगा नहीं हट रहा। चाय पे गंभीर चर्चा करने वाले राजन मलहोत्रा, संजीव कुमार, प्रवीण शर्मा, जसवीर सिंह और कुलदीप ने तर्क देते हुए कहा कि लोग हर पांच साल बाद जन प्रतिनिधियों को चुनकर विधानसभा भेजते हैं। चुने गए प्रतिनिधि अपने एरिया के किन इश्यू पर चर्चा करते हैं यह उनके ऊपर निर्भर है।

विधानसभा में उठने वाले इश्यू पर चर्चा के बाद ही तमाम योजनाएं सरकार बनाती है। बाद में उस पर अमल करवाने की जिम्मेदारी प्रशासन की रहती है। चर्चा के दौरान सबसे अहम बात यही उठी कि जब तक जनता अपनी मुख्य मांगों, समस्याओं और मुद्दों बारे जन प्रतिनिधि को अवगत नहीं करवाती, तब तक जन प्रतिनिधि भी कुछ नहीं कर सकता। उधर, सेवा हिमालय के संयोजक मनुज शर्मा ने भी चंबा जनमत निर्माण अभियान की हस्ताक्षर अभियान की कड़ी में चाय पे चर्चा की भी शुरुआत करने की बात कही है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams