News Flash
discussion meeting

राष्ट्रमंडल संसदीय संघ सम्मेलन की मेजबानी करेगा हिमाचल

  • 21 से 23 सितंबर तक विधानसभा परिसर में होगा सम्मेलन
  • लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के साथ 6 राज्य आएंगे

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव पर पूरे देश में लोकसभा और विधानसभाओं के एकसाथ चुनाव करवाने की संभावना पर अब शिमला में मंथन होगा। राज्य विधानसभा पहली बार राष्ट्रमंडल संसदीय संघ के सम्मेलन की मेजबानी कर रही है। शिमला में यह आयोजन 21 से 23 सितंबर तक होने जा रहा है। इसमें हिमाचल प्रदेश सहित देश के 6 राज्य शामिल होंगे।

यह राष्ट्रमंडल संसदीय संघ भारतीय क्षेत्र-4 के लिए सम्मेलन होगा। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल ने कहा कि तीन दिनों के इस सम्मेलन में हिमाचल प्रदेश सहित पंजाब, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान, जे एंडके और मध्य प्रदेश शामिल होंगे। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन राष्ट्रमंडल संसदीय संघ भारतीय क्षेत्र की अध्यक्ष भी हैं और वह 22 सितंबर को सम्मेलन को संबोधित करेंगी।

डॉ. बिंदल ने कहा कि सम्मेलन के दौरान दो ज्वलंत एवं महत्वपूर्ण विषयों भारत में लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के एक साथ चुनाव तथा मादक पदार्थों का बढ़ता सेवन दुष्प्रभाव एवं समाधान पर भी चर्चा होगी। डॉ. बिंदल ने कहा कि राष्ट्रमंडल संसदीय संघ भारतीय क्षेत्र चार के पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन मे भाग लेने के लिए सभी 6 राज्यों के विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष भाग लेंगे। जो 21 सितंबर को शिमला पहुंचेंगे।

स दौरान ई-विधान प्रणाली के प्रभाव एवं लाभ के बारे विस्तृत जानकारी दी जाएगी

उन्होंने कहा कि इस अवसर पर सचिव, संसदीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार राष्ट्रीय ई-विधान प्रणाली पर अपनी प्रस्तुति देंगे। डॉ. बिंदल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा द्वारा स्थापित देश की सर्वप्रथम ई-विधान प्रणाली का सदन मे प्रदर्शन किया जाएगा। इस दौरान ई-विधान प्रणाली के प्रभाव एवं लाभ के बारे विस्तृत जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सदन में कागज रहित मूक प्रश्न काल भी होगा जिसका संचालन ई-विधान के माध्यम से किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए लोक सभा की महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव, संसदीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार के सचिव सुरेंद्र नाथ त्रिपाठी तथा सम्मेलन में भाग लेने वाली सभी राज्य विधानसभाओं के सचिव भी मौजूद रहेंगे। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर सचिव, संसदीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार राष्ट्रीय ई-विधान प्रणाली पर अपनी प्रस्तुति देंगे। डॉ. बिंदल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा द्वारा स्थापित देश की सर्वप्रथम ई-विधान प्रणाली का सदन मे प्रदर्शन किया जाएगा।

इस दौरान ई-विधान प्रणाली के प्रभाव एवं लाभ के बारे विस्तृत जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सदन में कागज रहित मूक प्रश्न काल भी होगा जिसका संचालन ई-विधान के माध्यम से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए लोक सभा की महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव, संसदीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार के सचिव सुरेंद्र नाथ त्रिपाठी तथा सम्मेलन में भाग लेने वाली सभी राज्य विधानसभाओं के सचिव भी मौजूद रहेंगे।

एक मंच पर दिखेगा सत्तापक्ष-विपक्ष

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल ने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के इस सम्मेलन मे हिमाचल प्रदेश संसदीय समूह के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, हिमाचल प्रदेश संसदीय समूह के उपाध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज तथा हिमाचल प्रदेश संसदीय समूह कार्यकारी समिति के सदस्य कर्नल इंद्र सिंह, राकेश पठानिया, सुरेश कुमार कश्यप, राजेंद्र सिंह राणा तथा जीतराम कटवाल भी मौजूद रहेंगे।

यह भी पढ़ें – देव पाईंदल ऋषि के विशाल जागहोम में आग के अंगारों पर नाचे गुर

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams