News Flash
panchayat secretary

2013 से 2017 तक का नहीं हिसाब

जिप सचिव ने करवाई एफआईआर दर्ज

हिमाचल दस्तक। शाहतलाई
प्रदेश सरकार की ओर से ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न योजनाओं के तहत करोड़ों रुपये की राशि हर वर्ष जारी करती है। इसके लिए अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की जवाबदेही भी तय की गई है। लेकिन बिलासपुर जिले की डूडियां पंचायत में इन योजनाओं पर खर्च होने वाली राशि में पंचायत सचिव पर लाखों का हेरफेर करने का आरोप लगा है। पंचायत सचिव इस राशि का कोई हिसाब नहीं दे पाया है। जिला पंचायत अधिकारी की शिकायत पर पंचायत सचिव के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

बताया जा रहा है कि यह गड़बड़झाला वर्ष 2013 से फरवरी, 2017 के बीच जिला परिषद द्वारा जारी बजट में हुआ है। विभिन्न कार्यों के लिए लगभग 14 लाख 23 हजार रुपये की राशि जारी की गई थी। इस दौरान वहां सुनील कुमार पंचायत सचिव थे। विभाग ने सचिव को बार-बार ऑडिट करवाने के लिए कहा, लेकिन सचिव ने ऑडिट नहीं करवाई और न ही अधिकारियों को कोई रिपोर्ट दी। विभाग ने सचिव को स्पेशल ऑडिट करवाने के निर्देश दिए।

इसमें पता चला कि पंचायत सचिव ने स्वयं ही बैंक खातों से 4,87,865 रुपये निकाले हैं। शेष राशि के बारे भी कोई रिकॉर्ड प्रस्तुत नहीं हो पाया। उधर, जिला पंचायत अधिकारी राजेंद्र कुमार ने कहा कि डंूडियां पंचायत को जिला परिषद द्वारा 14 लाख 23 हजार रुपये जारी किए गए थे। इस राशि का कोई हिसाब पंचायत सचिव नहीं दे रहा था। बैंक खातों की जांच करने पर पता चला कि इस राशि में से पंचायत सचिव ने स्वयं बैंक खातों में से 4,87, 865 रुपये निकाले हैं।

विभाग द्वारा पंचायत सचिव के खिलाफ धोखाधड़ी के तहत मामला दर्ज करवा दिया गया है। उधर, पुलिस ने सचिव जिला परिषद की शिकायत के आधार पर ग्राम पंचायत सचिव सुनील कुमार के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। अभी इस मामले में सचिव के अलावा अन्य लोग शामिल हैं या नहीं यह जांच के बाद ही सामने आ पाएगा।

यह भी पढ़ें – कार खाई में गिरी, एक की मौत, चालक घायल

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams