News Flash
sikhism
  • अमृतधारी सिक्खों को नहीं देने दिया गया पुलिस भर्ती का पेपर

  • गुल्लरवाला से दो युवक गात्रा पहनकर गए थे पेपर देने, नहीं होने दिया हाल में दाखिल

  • गिड़गिड़ाने के बाद भी मौजूदा आईपीएस अधिकारी व स्टाफ ने एक नहीं सुनी

  • युवकों ने सीएम और पुलिस महानिदेशक को भेजी शिकायत, उठाई कार्रवाई की मांग

  • युवकों का आरोप सिक्ख धर्म की आस्था और हमारी जिंदगी से हुआ खिलवाड़

हिमाचल दस्तक, ओम शर्मा। बद्दी : हिमाचल प्रदेश पुलिस द्वारा रविवार को आयोजित पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा एक बार फिर चर्चा और विवादों में आ गई है। सोलन के एलआर कालेज में पुलिस विभाग द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा के दौरान दो अमृतधारी सिक्ख युवकों जिन्होंने गुरू का गात्रा पहन रखा था उन्हें परीक्षा हाल के अंदर जाने नहीं दिया गया।

दो सिक्ख युवक वहां मौजूद आईपीएस अधिकारी और स्टाफ के समक्ष गिड़गिड़ाते रहे, अपने भविष्य की दुहाई देते रहे। लेकिन अधिकारी व स्टाफ ने दोनों युवकों को गात्रा उतारने की स्थिति में ही परीक्षा हाल में अंदर जाने को कहा। जबकि युवकों ने यहां तक भी कहा कि वह दोनों अमृतधारी सिक्ख हैं और उन्होंने गुरू का गात्रा ग्रहण कर रखा है। जिसे वह किसी भी स्थिति में अपने शरीर से अलग नहीं होने दे सकते, यह हमारे सिक्ख धर्म का नियम है।

Playing with

लेकिन मौजूदा अधिकारी व स्टाफ ने युवकों की एक न सुनी और उन्हें पुलिस भर्ती का एग्जाम नहीं देने दिया गया। इस पूरे मामले के बाद दोनों युवकों ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, पुलिस महानिदेशक, पुलिस अधीक्षक व डीसी सोलन को शिकायत भेजकर पूरे मामले की जांच और कार्रवाई की मांग उठाई है। युवकों ने आरोप जड़ा है कि सिक्ख धर्म की आस्था के साथ साथ उनके भविष्य से भी खिलवाड़ किय गया है।

युवकों ने शिकायत में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग उठाई है कि इस पूरे मामले की जांच की जाए और सिक्ख धर्म की आस्था और उनके भविष्य से खिलवाड़ करने वाले अधिकारी व स्टाफ पर कार्रवाई अमल में लाई जाए।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]