News Flash
Police Constable Recruitment

प्रदेश पुलिस की मुस्तैदी के बावजूद हुई बड़ी चूक

एडमिट कार्ड के ब्लैक एंड व्हाइट फोटो बने दिक्कत

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला

प्रदेश पुलिस की लिखित परीक्षा जिस रैकेट की वजह से सरकार को रद करनी पड़ी, वो रैकेट कोई नया नहीं है। पिछले चार साल से सक्रिय था। गिरफ्तार किए गए 1३ युवकों से की गई पूछताछ से पता चला है कि यह गिरोह चार साल से ऐसे काम कर रहा था। दूसरे की जगह परीक्षा दे रहे इन बाहरी युवकों में से तीन को पुलिस ने गेट पर ही पकड़ लिया था, जबकि तीन को परीक्षा देते हुए पकड़े गया। पुलिस अधिकारी बताते हैं कि पुलिस चौकस थी, फिर भी चूक हो गई।

एडमिट कार्ड पर ब्लैक एंड व्हाइट फोटो होने से परीक्षा केंद्र पर पहचान एकदम संभव नहीं थी। 12 हजार परीक्षार्थियों को दो घंटे में ब्लैक एंड व्हाइट फोटो पर स्कैन करना संभव भी नहीं था। फिलहाल राज्य सरकार ने यह परीक्षा रद कर दी है और दूसरी तिथि जल्द तय होगी। हालांकि यह हैरानी की बात है कि पहले से सूचना होने के बावजूद इतनी बड़ी चूक हुई। पुलिस के अनुसार सभी परीक्षा केंद्रों पर व्यवस्था पूरी थी। वीडियोग्रॉफी भी हो रही थी, लेकिन महज दो घंटे में 12 हजार उम्मीदवारों के रोल नंबर फोटो मिलाकर चेक करना संभव नहीं था।

case registered

जिनकी जगह परीक्षा दी, उन पर भी केस दर्ज होगा

पुलिस का कहना है कि असल परीक्षार्थी की जगह परीक्षा देने आए जो युवक अब तक गिरफ्तार हुए हैं, लेकिन जिनके स्थान पर यह पेपर देने आए थे, वे भी नहीं बचेंगे। इनके खिलाफ भी पुलिस मामला दर्ज करने जा रही है। पुलिस विभाग ने इन मुन्नाभाइयों को तो पकड़ लिया है। लेकिन अब चर्चा तो यह है कि क्या यह गिरोह केवल पुलिस भर्ती में ही सक्रिय होता है, यह फिर प्रदेश में होने वाली दूसरी परीक्षाओं में भी अपने इस काम को अंजाम देता रहा।

डीजीपी एसआर मरडी ने कहा कि पूरे मामले की जांच चल रही है। भविष्य में ऐसी गलती दोबारा न हो, इसलिए लिए परीक्षा प्रणाली में बदलाव करेंगे। यह बदलाव क्या होंगे, ये अभी बताना ठीक नहीं होगा। इसका खुलासा करना इसलिए ठीक नहीं होगा, क्योंकि ये लोग फिर इसकी भी काट खोज लेंगे।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams