News Flash
post office agent fraud

वर्ष 2009 से कर रहा था डाकघर एजेंट के रूप में काम, जाली पास बुक बनाकर करता रहा लोगों से धोखा

भोरंज पुलिस ने किया एजेंट को गिरफ्तार, न्यायलय में

रमित शर्मा। भरेड़ी
भोरंज क्षेत्र के अंर्तगत आने वाले उपडाकघर भरेड़ी में लघु बचत योजना के तहत आरडी एवं एफडी का काम करने वाले एजेंट ने जाली पास बुक बना कर करीब 60 लाख रूपए का गबन कर दिया है। पता चलते ही डाकघर अधिकारियों के कान खड़े हो गए वहीं इस एजेंट के पास आरडी एवं एफडी करवाने वालों में हडकंप मच गया। बताया जा रहा है कि ये राशी शुरूआती जांच में ही सामने आई है, छानबीन में ये राशी अधिक बढ़ सकती है।

मिली जानकारी अनुसार पवन कुमार पुत्र प्रेमचंद निवासी गांव व डाकघर भुक्कड़ ,तहसील भोरंज लघु बचत योजना के तहत आरडी एवं एफडी के एजेंट के रूप में वर्ष 2009 से काम करता है। इसकी पत्नी इससे भी पहले की एजेंट है इतने वर्षों में ये एजेंट लोगों के पैसे डकारता रहा लेकिन किसी को इसकी खबर नहीं लगी। इसकी भनक उस समय लगी जब एक ग्राहक ने डाकघर जाकर अपने खाते के बारे में जानकारी लेनी चाही। उसे बताया गया कि ऐसा कोई उसके नाम पर खाता ही नहीं है।

बात सामने आते ही उसने एजेंट से अपने खाते के बारे में जानना चाहा तो वो आनाकानी करने करने लगा। इसके बाद पता चलते ही जब अन्य लोगों ने भी अपने खातों के बारे में जानना चाहा तो उन्हें कुछ हाथ आता नहीं लगा। इस संदर्भ में थाना भोरंज में विशाल सुपुत्र हेमराज निवासी गांव बेरी, ब्राह्मणा, तहसील भोरंज जिला हमीरपुर सहित कई अन्य लोगों ने शिकायत दर्ज करवाई कि एजेंट पवन कुमार ने इन्हें झांसे में लेकर इनके जाली आरडी एफ डी के खाते बनवाकर इन्हें धोखा देकर इनके पैसे का गबन किया है।

बताया जा रहा है कि उक्त एजेंट डाकघर की ही पुरानी पास बुकों पर आगे फर्जी अकाऊंट चलाकर लोगों के पैसे खाता रहा।

इस बारे में उपडाकघर भरेड़ी के सब पोस्टमास्टर जोगिंद्रा देवी का कहना है कि उन्होंने 2017 में यहां ज्वाइन किया है जब एक ग्राहक अपने खाते का पता करने डाकघर पहुंचा तो उसका खाता वहां नही मिला जिस पर उक्त एजेंट पर शक हुआ उक्त एजेंट ने पुरानी पास बुकों को दोबारा से यूज किया है, जिसकी जानकारी उन्हें अन्य लोगों की पासबुक से मिली थी। ये पासबुकें उनके पास कहां से आईं इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। जारी की गई पासबुकों पर उनके हस्ताक्षर नहीं हैं। इसके बारे में एजेंट को ही पता होगा, इसमें उनका कोई लेना-देना नहीं है।

इस संबंध में पुलिस थाना भोरंज एसएचओ कुलवंत सिंह ने बताया के इस एजेंट के बारे में कई शिकायतें आई हैं मामला दर्ज कर आरोपी को न्यायलय में पेश किया गया, जहां उसे छ: दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में 50 से 60 लाख रुपए के गबन का पता चला है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams