BJP

भाजपा प्रभारी मंगल पांडे के सामने सदस्यता ली विजय ज्योति सेन ने

ज्योति ने कसुम्पटी से पिछली बार बतौर निर्दलीय लिए थे 6,466 वोट

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। अभी दानों की दलों में पार्टी उम्मीदवारों के नाम भी घोषित नहीं हुए हैं, इससे पहले ही क्योंथल रियासत के राजपरिवार की बहु विजय ज्योति सेन ने भाजपा का दामन थाम लिया है। मंडी संसदीय क्षेत्र से पूर्व सांसद रही प्रतिभा सिंह की भाभी ज्योति ने वीरवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में पार्टी प्रभारी मंगल पांडेय की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

इस दौरान आयोजित कार्यक्रम में भाजपा के कई कार्यकर्ता शामिल थे। राजपरिवार से संबंध रखने के कारण कसुम्पटी विधानसभा क्षेत्र में विजय ज्योति सेन का काफी प्रभाव रहा है। वर्ष 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़कर विजय ज्योति सेन ने 6,466 वोट लेकर तीसरे स्थान पर रह कर अपनी उपस्थित दर्ज करवा चुकी है।

इस दौरान उनका मुख्य मुकाबला कांग्रेस के ही कोटी रियासत के राजपरिवार के अनिरुद्ध सिंह से था। विजय ज्योति सेन के देवर एवं मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के साले पृथ्वी विक्रम सेन ने कांग्रेस पार्टी को छोड़कर पिछले साल ही भाजपा में शामिल हुए थे। ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को कई तरह की चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार रहना होगा।

चौधरी नाहर सिंह समेत कई और भाजपा में शामिल

पार्टी प्रभारी मंगल पांडेय की अध्यक्षता में सैंकड़ों लोगों ने भाजपा का दामन थामा है। वीर विक्रम सेन, पृथ्वी विक्रम सेन, ढली मंडी आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान नाहर सिंह चौधरी, ट्रक ऑपरेटर यूनियन ढली के अध्यक्ष मदन लाल वर्मा, पल्लेदार यूनियन सब्ज़ी मंडी रामलोक, सेवक राम वर्मा, सेवानिवृत अधीक्षण अभियंता शिव लाल शर्मा, विकास शर्मा, मनीष चौधरी, सुशील कुमार, आर के राठौर, कैलाश शर्मा, रामलाल ठाकुर, मदन लाल, राजेश कुमार सूद, राज नारायण वर्मा, सुरेश कुमार भागड़ा, सुशील सूद, नारायण सिंह, बालकृष्ण, श्यामलाल, मनोज कुमार, संतोष कुमार, प्यार चंद, अमन सूद व पंकज सुखचैन ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

इस अवसर पर मंगल पांडेय ने कहा कि भाजपा एक परिवार जैसी पार्टी है, जिसमें सभी कार्यकर्ताओं को प्रेम एवं आदर की भावना से देखा जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में परिवर्तन की लहर चल रही है और जिसे अब सुनामी बनने में वक्त नहीं लगेगा। भारतीय जनता पार्टी की इस बार 50 से अधिक सीटें आनी तय है।

कसुम्पटी के कई क्षेत्रों में राजपरिवार का प्रभाव

क्योंथल रिसासत के पुराने राजपरिवार को कसुम्पटी विधानसभा के तहत पडऩे वाले कई क्षेत्रों में प्रभाव है। पिछली बार विधानसभा में हुए चुनाव परिणामों को देखें तो सरघीण, क्वालग, मंझार, पुजारली, चौरी, रुहालटी, कोटी, पीरन, जुन्गा, भड़ेच, कोट, डुबलू व शतलाई आदि कई क्षेत्रों में विजय ज्योति सेन को अच्छी बढ़त मिली थी। निर्दलीय चुनाव लडऩे के बाद भी इन सभी जगहों पर वह राजपरिवार के प्रभाव के कारण पहले नंबर पर रही थी।

विजय ज्योति सेन बीडीसी का चुनाव जीतकर मशोबरा ब्लॉक से चेयरमैन भी रह चुकी है। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में अनिरुद्ध सिंह 16,929 मत हासिल कर चुनाव जीते थे। भाजपा के प्रेम सिंह 7,043 वोट प्राप्त कर दूसरे स्थान पर रहे थे। विजय ज्योति सेन 6,466 वोट लेकर तीसरे व माकपा के प्रत्याशी कुलदीप सिंह तंवर 4,823 वोट प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे थे। अब ज्याति सेन के भाजपा में मिलने के बाद कसुम्पटी विधानसभा क्षेत्र में समीकरण बदल सकते हैं।

 

HRTC दिवाली पर यात्रियों को देगा 83 स्पैशल बसों का तोहफा

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams