News Flash
prisoner returned jail

अब ओपन जेल की जगह बाकी सजा कटेगी बंद जेल में

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। नाहन
नाराज पत्नी को मनाने के बाद एनडीपीएस में सजा काट रहा कैदी हरिलाल नाहन जेल पहुंच गया है। आदर्श केंद्रीय कारागार नाहन की ओपन जेल में सजा काट रहा हरि लाल 5 जून को अपनी ड्यूटी के लिए हिंदू आश्रम के लिए निकला था। मगर शाम को वापिस जेल में उसने हाजिरी नहीं दी। जेल प्रशासन के द्वारा कैदी की बकाया सजा की कम अवधि और अच्छे चाल चलन की वजह से उसका इंतजार भी किया। वापिस जेल न लौटने पर जेल प्रशासन द्वारा सात जून को गुन्नूघाट पुलिस चौकी में एफआईआर भी दर्ज करवा दी थी।

हरिलाल अंतरराष्ट्रीय मादक द्रव्य अधिनियम के तहत दस साल की सजा हुई है। जिसमें अब उसके 9 माह ही शेष बचे हैं। जानकारी यह मिली है कि घर की किसी समस्या को लेकर कैदी कुल्लू चला गया था। पत्नी के घर पर आने में हुई देरी और समय पर वापिसी के लिए बस न मिलने के कारण हरिलाल वापिस नहीं कर पाया। जिसके बाद जेल प्रशासन ने लगातार उससे संपर्क बनाने की कोशिश की। 8 जून को संपर्क होने के बाद उससे वापिस आने के लिए कहा गया, जिससे पता चला कि वह नाहन की ओर ही चला हुआ है।

यह अच्छी बात रही कि पुलिस को भाग दौड़ नहीं करनी पड़ी

कैदी हरि लाल शनिवार सुबह वापिस आदर्श कारागार नाहन पहुंच गया। जेल पहुंचने पर जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली। तो वहीं हरि लाल को अब बाकी बची सजा ओपन जेल की बजाए बंद जेल में काटनी होगी। बताना यह भी जरूरी है कि एनडीपीएस में मिली सजा पर कोई रमिशन आदि नहीं होती है, केवल अच्छे चाल चलन पर बंदी को सजा के बाद बतौर कैदी ओपन जेल में भी भेज दिया जाता है।

ओपन जेल में सुबह और शाम को दोनों वक्त हाजिरी देनी होती है। यदि शाम को कैदी जेल बंद होने से पहले हाजिरी नहीं देता है तो जेल प्रशासन उसकी सूचना जिला प्रशासन और पुलिस को देता है। यह अच्छी बात रही कि पुलिस को भाग दौड़ नहीं करनी पड़ी। कैदी स्वयं ही जल पहुंच गया। केंद्रीय आदर्श कारागार नाहन के सहायक जेल अधीक्षक विकास भटनागर ने बताया कि कैदी शनिवार की सुबह जेल पहुंच गया है, जिसे अब ओपन जेल में न भेजकर बंद जेल में भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें – फाइलों में दबकर रह गई नाहन बस निर्माण के लिए एक करोड़ की घोषणा

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams