commission recruit doctors

स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार बोले, डॉक्टरों की आरकेएस भर्ती गलत

कंडाघाट की तर्ज पर बद्दी में भी 15 करोड़ से जल्द बनेगी नई लैब

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
प्रदेश में डॉक्टरों की भर्ती अब कमीशन से ही होगी। यानी डॉक्टरों को सोसायटी या ठेेके के माध्यम से नहीं रखा जाएगा। शिमला में पत्रकारों को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा कि डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया में सोयायटी और अन्य प्रकार से नियुक्ति प्रक्रिया को बंद किया जाएगा। इसमें कमीशन के माध्यम से ही प्रदेश में डॉक्टरों को रखा जाने वाला है। इस प्रस्ताव को कैबिनेट में ले जाया जाएगा। इसके बाद मंजूरी मिलने के बाद डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि जयराम सरकार के सत्ता संभालने के बाद प्रदेश में डॉक्टरों के खाली पदों को भरने में तेजी लाई गई है। इसमें 250 डॉक्टरों के पदों को भरा जा चुका है। वहीं 1900 पद पैरामेडिकल के भी पद भरे जाने वाले हैं। इसका प्रस्ताव लोक सेवा आयोग को सौंप दिया गया है। परमार ने कहा कि कंडाघाट लैब की तर्ज पर बद्दी में भी एक लैब स्थापित की जाएगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की मदद से यह लैब जल्द स्थापित की जाएगी।

उन्होंने बताया कि 15 करोड़ की मदद से यह लैब बद्दी में बनने वाली है। लैब को बनाने को नब्बे फीसदी खर्चा केंद्र और दस फीसदी खर्चा प्रदेश सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 में दवाओं के 1128 दवाओं की जांच हुई है, जिसमें 42 सैंपल सबस्टेंर्ड आए हैं। जिस पर कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने ड्रग इंस्पेक्टर्स को निर्देश दिए हैं कि वे दवाओं के सैंपल समय दर समय लेते रहें और इसकी रिपोर्ट प्रदेश सरकार को भेजी जाए।

यह भी पढ़ें – नीति आयोग अपनाएगा जीरो बजट खेती

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams