tarring making road

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना की उड़ी धज्जियां

  • लोगो का कहना, विभाग अपने चहेते ठेकेदारों को लाभ पहुंचा रहा है और सरकारी पैसों का दुरुपयोग कर रहा
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत लगभग साढ़े छ करोड़ रुपये की धन राशि खर्च की जा रही
  • सड़क पर डाली गई तारकोल ने सिर्फ एक हफ़्ते में ही उखड़ कर लोक निर्माण विभाग की पोल खोल दी
ललित ठाकुर । पधर 
उपमंडल पधर में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत पक्की हो रहीं सड़कों की टायरिंग मात्र एक हफ़्ते में ही खुलना शुरू हो गयी है। जिस कारण लोक निर्माण विभाग सुर्खियों में आ गया है ओर अब लोक निर्माण विभाग की कार्यशैली पर निशान उठना शुरू हो गए है। उपमंडल पधर की पधर से नोहली सड़क पर प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत पक्का किया जा रहा है लेकिन सड़क की टायरिंग मात्र एक हफ़्ते में उखड़ कर सड़क की हालत बद से बदतर हो गयी।
लोगो का कहना है लोग निर्माण विभाग अगर समय समय पर सड़क पर तारकोल बिछाने का कार्य करे तो उपमंडल की सड़कें चका चक हो सकती है लेकिन कुछ सड़को पर एक बार टायरिंग करने के बाद कई वर्ष बीत जाने के बाद भी दोबारा सड़क पर टायरिंग नही होती जिस कारण लोगो को गड्डो पर चलना पड़ता है।

विभाग चेहते ठेकेदार को लाभ पहुंचा रहा है ओर लोगो की जिंदगियों को खतरे में डाल रहा

उपमंडल के लोगो का कहना है कि लोक निर्माण विभाग चहेते ठेकेदार को लाभ पहुंचा रहा है ओर लोगो की जिंदगियों को खतरे में डाल रहा है। हालांकि पधर नोहली सड़क को प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत लगभग साढ़े छ करोड़ रुपये की धन राशि खर्च की जा रही है जिसमे टायरिंग के साथ साथ, नालिया, कलवर्ट ओर डंगो का निर्माण होना है।
लेकिन सड़क पर डाली गई तारकोल ने सिर्फ एक हफ़्ते में ही उखड़ कर लोक निर्माण विभाग की पोल खोल दी है। बताया जा रहा है कि सड़क पर टायरिंग का कार्य अक्टूबर लास्ट ओर नम्बर के पहले हफ़्ते में किया गया लेकिन इन महीनों में तापमान गर्म न होने के कारण भी लोक निर्माण विभाग ने ठेकेदार के माध्यम से सड़क पर टायरिंग कर डाली जिस वजह से सड़क की टायरिंग उखड़ गई।

अब लोक निर्माण विभाग अपनी ज़िम्मेवारी से पीछे हटता नजर आ रहा

लोगो का कहना है लोक निर्माण विभाग अपने चहेते ठेकेदारों को लाभ पहुंचा रहा है और सरकारी पेसो का दुरुपयोग कर रहा है । लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि सड़क की ज़िम्मेवारी ठेकेदार की पांच साल तक है और जो भी टायरिंग उखड़ी है उस की मरम्मत ठेकेदार से करवाई जाएगी लेकिन लोक निर्माण विभाग की भी तो ज़िम्मेवारी बनती है कि टायरिंग के लिए समय और तापमान का भी ध्यान रखना चाहिए था। जिस कारण अब लोक निर्माण विभाग अपनी ज़िम्मेवारी से पीछे हटता नजर आ रहा है ओर सारी ज़िम्मेवारी ठेकेदार पर ही थोप रहा है।

क्या कहते हैं SDO

उधर SDO पधर SK कौशल ने अपना पल्लू झाड़ते हुए कहा कि जहां धूप नही लगती वहा पर टायरिंग निकल जाती है। और रनिंग वर्क में ऐसा हो जाता है। उन्होंने ठेकेदार से दोबारा काम करबाने की बात कही है। अभी तक ठेकेदार को पेमेंट नही हुई है ।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams