आईजीएमसी के ऑर्थो विभागाध्यक्ष का प्रस्ताव नामंजूर, स्पेशल सेक्रेटरी ने जांच कर डीएमई को रिपोर्ट सौंपी

हिमाचल दस्तक। शिमला : प्रदेश सरकार ने इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज के ऑर्थोपेडिक्स विभागाध्यक्ष को प्रीमेच्योर रिटायरमेंट देने से मना कर दिया है। विभागाध्यक्ष के खिलाफ मरीज न देखने के आरोप के मामले में जांच चल रही है।

प्रदेश सरकार ने प्रस्ताव को खारिज कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने विभागाध्यक्ष के खिलाफ चल रही जांच की फाइल को डायरेक्टर ऑफ मेडिकल एजुकेशन (डीएमई) को भेज दी है। मामले की छानबीन करने के लिए सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के स्पेशल सेक्रेटरी को जांच का जिम्मा सौंपा है। मामले की जांच के लिए मरीजों से भी पूछताछ की गई। जांच अधिकारी ने विभागाध्यक्ष से भी इस मामले के बारे में अपना पक्ष रखने को कहा। विभागाध्यक्ष ने सरकार को लिखित में जवाब दिया कि उन्होंने किसी भी मरीजों को चेकअप करने से मना नहीं किया है।

आईजीएमसी के ऑर्थो विभागाध्यक्ष पर मरीज न देखने का आरोप है। मामले की जांच चल रही है। विभागाध्यक्ष ने रिटायरमेंट के लिए आवेदन किया है, जिसे फिलहाल टाल दिया गया है।
-विपिन सिंह परमार स्वास्थ्य मंत्री

Published by surinder thakur

IT Head Himachal Dastak Media P. Ltd. Bypass Road kangra Kachiari H.P.

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें