News Flash
landsliding terror

कई घरों में आई दरारें, मकान गिरने की करार पर

जावेद खान। तीसा
खुशनगरी पंचायत के सकलोग गांव में भू-स्खलन से गांव को खतरा पैदा हो गया है। यहां पूरा गांव भू-स्खलन की चपेट में आ गए हैं, जिससे लोग खौफ के साए में जीने को मजबूर हो गए हैं। बताया जाता है कई घरों में दरारें आ चुकी, जिसके चलते मकान गिर भी सकते है। इसकी शिकायत उपमंडलाधिकारी तीसा के समक्ष पंचायत उपप्रधान सहित समक्ष गांववासियों द्वारा पेश की गई थी। इसको देखते हुए उपमंडलाधिकारी तीसा ने विकास खंड अधिकारी को सख्त आदेश दिए थे कि उक्त जगह पर एक टीम गठित कर मौका करवाया जाए, ताकि गांव को हो रहे खतरे से लोगों को बचाया जाए।

विकास खंड अधिकारी तीसा की तरफ से जेई को मौके पर भेज दिया गया था और रिपोर्ट तैयार कर ली गई है, लेकिन अभी तक न तो कोई उच्च अधिकारी वहां पहुंचा ओर न ही मौका किया गया। और पूरा गांव भू-स्खलन की जद में आ गया है। जिससे कुछ मकानों को काफी नुकसान भी हुआ है। इस बात को देखते हुए पंचायत के लोगों ने उपप्रधान सहित एक बार फिर से उपमंडलाधिकारी को इस समस्या से अवगत करवाया की समय रहते गांव का कुछ समाधान निकाला जाए, क्योंकि भू-स्खलन गांव से मात्र 100 मीटर की दूरी पर पहुंच चुका है इसके बाद अगर कुछ उपाय नहीं निकाला, तो मकानों की लंबी कतार इसकी जद में आ जाएगी।

उपमंडलाधिकारी ने आश्वासन दिया था कि उन परिवारों की प्रशासन भी हर संभव सहायता करेगा, क्योंकि उपमंडलाधिकारी तीसा द्वारा गांव सकलोग की पूरी कोशिश जारी है कि उक्त गांव को भू-स्खलन की जद से बचाया जाए। गांव में सभी परिवार को बचाया जाए, जो भू-स्खलन की जद में आ रहे है ओर प्रशासन तीसा की तरफ से इनकी पूरी सहायता करेगा। आपको बता दे कि चुराह में बीत दिनों भारी बारिश बर्फबारी के दौर चला हुआ था। इसके कारण पूरा जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है ऐसे में इन परिवारों को सकलोग गांव में रहना खतरे से खाली नहीं है इसके चलते गांव में भू-स्खलन जारी है और लोग डर के साए ने जीने को मजबूर है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams