school girls call girls

बच्चों ने लगाया आरोप, टूअर पर न जाने को लेकर सात दिन से हो रही पिटाई

प्रधानाचार्य को आज थाने में किया जाएगा तलब

चंद्रमोहन चौहान। ऊना

अनुशासन व शिक्षा में ढिलाई बरतने पर अक्सर शिक्षक बच्चों की पिटाई कर देते हैं, लेकिन ऊना जिला में एक ऐसा स्कूल हैं जहां पर बच्चों को न तो अनुशासन और न ही पढऩे के लिए पिटा गया। शहर के इस स्कूल में बच्चों की पिछले सात दिनों से सिर्फ इसलिए पिटाई की जा रही है कि क्योंकि स्कूली बच्चें टूअर पर नहीं जा रहे हैं।

बच्चों का आरोप है कि स्कूल के प्रधानाचार्य पिटाई के साथ-साथ अश्लील बातें भी करते हैं। साथ ही साथ नशीली दवाइयों को भी बैग में रखने का हवाला देकर डराते रहते हैं। वहीं स्कूल की छात्राओं का आरोप है कि प्रधानाचार्य प्रार्थना सभा के बीच बालों के स्टाइल बनाने पर कॉल गर्ल्स कहकर बुलाते हैं।

जिन्होंने पैसे नहीं दिए, उनको प्रधानाचार्य रोजाना पीट रहे

प्रधानाचार्य की इस हरकत से परेशान बच्चों ने स्कूल की एसएमसी प्रधान से मिलकर इसकी शिकायत पुलिस को सौंप दी है। बता दें कि जिला के एक प्राइवेट स्कूल के जमा दो में पढऩे वाले बच्चों का प्रदेश के बाहर टूअर जाना निश्चित हुआ। इसके लिए प्रधानाचार्य ने कक्षा के बच्चों को एक-एक हजार रुपये लाने की बात कही। जमा दो में पढऩे वाले बच्चों का आरोप है कि कुछ बच्चों ने तो पैसे दे दिए, लेकिन जिन्होंने पैसे नहीं दिए, उनको प्रधानाचार्य रोजाना पीट रहे हैं। इतना ही माता-पिता पर यकीन न होने की बात कहकर शर्मसार किया जाता है।

बच्चों ने बताया कि प्रधानाचार्य ने अब टूअर की तिथि बढ़ाकर साफ कहा कि जल्द से जल्द टूअर के पैसे जमा करवाया। बच्चों ने प्रधानाचार्य पर अश्लील बातें करने का भी आरोप लगाया। स्कूली छात्राओं का आरोप है कि जब हम बालों का स्टाइल (पफ) बनाती हैं, तो सुबह की प्रार्थना सभा के बीच कॉल गल्र्स कहकर बुलाते हैं और कहते है कि तुम कलंक हो।

प्रधानाचार्य द्वारा रोजाना हो रही पिटाई व उनकी अश्लील बातों से तंग आकर इसकी शिकायत एसएमसी प्रधान से की। बच्चों ने एसएमसी प्रधान की मदद से प्रधानाचार्य के खिलाफ ऊना पुलिस को शिकायत सौंप दी है। उधर, स्कूल प्रधानाचार्य ने सभी आरोपों को नकारा है। उन्होंने कहा कि मैंने टूअर के लिए कभी भी बच्चें को नहीं पिटा।

CCTV कैमरे की फुटेज की भी हो जांच

छात्राओं का आरोप है कि स्कूल में चले एक शिविर के दौरान उनका रात्रि ठहराव स्कूल की लाइब्रेरी रूम में किया गया था, जिसमें CCTV कैमरा लगा हुआ है। उन्होंने बताया कि रूम का कैमरा ऑन रहा, जिस कारण उन्हें शक है कि प्रधानाचार्य उनकी गतिविधियों को देखते रहे हैं। इसलिए इसकी भी जांच होनी चाहिए।

क्या कहते हैं SP

पुलिस अधीक्षक संजीव गांधी का कहना है कि प्रधानाचार्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। बुधवार को प्रधानाचार्य को थाना तलब किया जाएगा।

मंडी जिला में धारा-144 लागू

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams