News Flash
private schools

शून्य परिणाम देने वाले 19 निजी स्कूलों से नोटिस देकर मांगा है जवाब

लीगल ऑपिनियन आते ही होगी कार्रवाइ, लिस्ट तैयार

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
प्रदेश के 19 निजी स्कूलों की एनओसी खतरे में पड़ सकती है। शून्य रिज़ल्ट देने वाले निजी स्कूलों से मांगे गए जवाब संतोषजनक नहीं आए तो ये कार्रवाई प्राइविट स्कूल पर हो सकती है। हालांकि शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलों पर की जाने वाली कार्रवाई के लिए अभी लीगल ऑपिनियन का इंतज़ार किया जा रहा है लेकिन 19 स्कूलों की लिस्ट आगामी कार्रवाई के लिए बिलकुल तैयार है। फिलहाल खराब रिज़ल्ट देने वाले सरकारी स्कूल ही नहीं बल्कि अब निजी स्कूलों की भी प्रदेश सरकार खिंचाई करने वाली है।

पहली बार प्रदेश सरकार ये कदम उठाने वाली है जिसमें निजी स्कूलों की एनओसी रद्द् हो सकती है। जिसमें प्रदेश सरकारा निजी स्कूल की मान्यता को तो प्रभावित नहीं कर सकती बल्कि उसकी एनओसी को जरूर प्रभावित कर सकती है।
जानकारी के मुताबिक दसवीं के परीक्षा परिणाम के बाद 19 ऐसे स्कूल सामने आए हैं जिनका परिणाम शून्य रहा है। इसकी लिस्ट तैयार की

जा रही है जिन निजी स्कूलों का रिज़ल्ट शून्य रहा है। इसमेेंं अब प्रदेश सरकार इस ओर कार्रवाई की तैयारी कर रही है। हालांकि नियम के तहत खराब रिज़ल्ट पर प्रदेश सरकार निजी स्कूलों पर कार्रवाई नहीं कर सकती है लेकिन बच्चों के अभिभावकों से हजाऱों रूपए फीस वसूलने के बाद भी रिज़ल्ट बेहतर नहीं होने पर सरकार ने कानूनी राय लेने के लिए लिखा है।

दिखाया जाएगा निजी स्कूलों को आइना

प्रदेश सरकार का मानना है कि जनता को निजी स्कूलों का भी आइना दिखाया जाएगा। जिसमें अभी तक सामने आया है कि इस बार स्कूल शिक्षा बोर्ड में दसवीं के 55 स्कूलों के शून्य परिणाम के बाद 19 तो बोर्ड से मान्यता प्राप्त ऐसे निजी स्कूल ही सामने आए हैं जहां पर एक भी बच्चा पास नहीं हो पाया है। बाकी 36 स्कूल सिर्फ सरकारी हैं। लिहाजा़ प्रदेश सरकार के मुताबिक संबंधित निजी स्कूलों पर भी कार्रवाई जल्द की जाने वाली है।

रिपोर्टर-दीपिका

यह भी पढ़ें – होशियार मर्डर कांड के बाद भी नहीं जागा वन विभाग

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams