solan congress

2017 के विधानसभा चुनावों में लिया था राशन व फूलमालाएं

  • कांग्रेस उम्मीदवार शांडिल ने भी किया उधारी चुकता करने से किनारा
  • पैसा न मिलने से दुकानदारों में रोष

भूपेंद्र ठाकुर। सोलन
सोलन कांग्रेस कर्ज के बोझ तले दबी हुई है। पार्टी खाली जेब जीत का दावा कर रही है। वर्ष 2017 के विधानासभा चुनाव में लगाए गए लंगर का बकाया अभी तक नहीं दिया है। राशन व फूलों सहित करीब 1.50 लाख रुपये का कर्ज पार्टी पर है। कोई भी नेता दुकानदारों की उधारी देने को तैयार नहीं है। लोकसभा चुनाव की रैलियां फिर से शुरू हो चुकी हैं। ऐसे में अब कांग्रेस के नेताओं को कोई भी उधारी का सामान देने को तैयार नहीं है। जानकारी के अनुसार अक्तूबर 2017 में लोकसभा चुनावों के दौरान शहर के गंज बाजार में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की रैली हुई थी। इस दौरान सोलन से कांग्रेस के उम्मीदवार कर्नल धनीराम शांडिल थे।

रैली में आने वाले सभी लोगों के लिए कांग्रेस पार्टी द्वारा दोपहर के भोजन की व्यवस्था की गई थी। जिला के एक पदाधिकारी ने राम बाजार स्थित एक दुकानदार विनय गुप्ता से 48 हजार रुपये का राशन लिया था। विनय गुप्ता का कहना है कि राशन लेने के बाद पार्टी के नेता पैसा देना भूल गए। मैं कई बार अपने पैसे मांग चुका हूं। यहां तक कि पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह व कर्नल धनीराम शांडिल के आगे भी पैसे के लिए हाथ जोड़ चुका हूं। अभी तक कोई भी कांग्रेसी नेता राशन के पैसे देने को तैयार नहीं हुआ है।

यहां तक कि कर्नल धनीराम शांडिल ने भी इस मामले से अपना पल्ला झाड़ लिया है। एक वर्ष से अधिक का समय बीत चुका है, दुकानदार को अपना पैसा नहीं मिल पाया है। बताया जा रहा है कि शहर के माल रोड़ पर स्थित फूल विक्रेता ने भी करीब एक लाख रुपये पार्टी से लेना है। कांग्रेस नेता अपने स्टार प्रचारकों को उधारी की फूलमालाएं पहनाते रहे। अब फूल विक्रेताओं ने भी कांग्रेसियों से तौबा कर ली है। लोकसभा चुनाव फिर से आ चुके हैं। शुक्रवार 20 अप्रैल को शहर के गंज बाजार में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की चुनावी रैली है।

इत्तेफाक की बात है कि उम्मीदवार भी कर्नल धनीराम शांडिल ही हैं। बताया जा रहा है कि राशन की उधारी का मामला गंज बाजार में पूर्व सीएम के समक्ष भी उठ सकता है। उधारी चुकता न होने को लेकर दुकानदार काफी रोष में है। यदि कांग्रेस इसी प्रकार उधारी करती रही तो भविष्य में कोई भी दुकानदारी पार्टी के नेता को उधार नहीं देने वाला है।

मैंने अक्तूबर 2017 में हुई चुनावी रैली के लिए एक दुकानदार से राशन खरीदने के लिए पर्ची जरूर दी थी, लेकिन यह पर्ची विधायक पद के उम्मीद कर्नल धनीराम शांडिल की तरफ से दी थी। जाहिर सी बात है कि पैसा भी उम्मीदवार को ही देना था।  -राहुल सिंह ठाकुर तत्कालीन कांग्रेस जिला अध्यक्ष

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams