justice father

बेगुनाह पिता कुल्लू जेल में बंद

  • मां के देहांत के बाद टुटा मुश्किलों का पहाड़
  • महामहिम राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को भी न्याय के लिए पाती भेजी
  • कहा झूटी गवाहियों से फंसाया पिता को

हिमाचल दस्तक । पधर 
हत्या के जुर्म में जेल में बंद बाप को न्याय दिला कर रिहा करने की गुहार पधर उपमंडल के चमाह गांव के ऋतिक कुमार और उसके ताया दूनी चंद ने उच्च न्यायलय के चीफ जस्टिस और सूबे के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से लगाई है। ऋतिक कुमार ने बताया कि उसका पिता नागेंद्र कुमार परिवार सहित मनाली के कुलंग गांव में बनाए गए अपने घर में रहते हैं।

18 दिसंबर रात्रि को कुलंग गांव का युवक पन्ना लाल उनके मकान के साथ गिरा पड़ा चीख रहा था। नागेंद्र कुमार ने उसकी चीख सुनते ही युवक को लहूलुहान अवस्था मे देखा तो वह समीप के दो तीन लोगों के साथ उसे उपचार को लेकर मिशन अस्पताल मनाली ले कर आए। जहां उपचार दौरान तीसरे दिन पन्ना लाल ने दम तोड़ दिया।

19 दिसंबर को मनाली पुलिस ने इस मामले की तफ्तीश शुरू की और बकायदा बयान दर्ज किए। लेकिन स्थानीय ग्रामीण उग्र होकर युवक को घायल अवस्था मे अस्पताल पहुंचाने वाले सभी लोगों को आरोपी बनाने के लिए पुलिस पर दबाब बनाने लगे। इस बाबत कुछ राजनीतिक रसूख रखने वाले प्रभावशाली लोग सरकार और प्रसाशन के खिलाफ धरना देकर मेरे पिता को हिरासत में लेने का दबाब बनाने लगे। 22 दिसंबर को पुलिस ने मेरे बेगुनाह बाप को जबरन हिरासत में लेकर गिरफ्तार कर लिया।

सदमे से 22 जनवरी को मां कमला देवी की हृदयघात होने से हुई मौत

आज मेरे बेगुनाह पिता कुल्लू जेल में बंद हैं। इस बाबत मैं और मेरे परिवार के सदस्य पुलिस थाना प्रभारी मनाली और एसपी कुल्लू से भी मिले और मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की लेकिन कोई सुनवाई नही की गई। इसी सदमे में आकर 22 जनवरी को मेरी माता कमला देवी की हृदयघात होने से मौत हो गई। पूरा परिवार अब पूरी तरह टूट गया है। युवक पिता को न्याय दिलाने के लिए दर दर भटक रहा है, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नही हो रही है।

पीड़ित युवक ने कहा कि मनाली में उनका अच्छा कारोबार है लेकिन स्थानीय ग्रामीण पूरी तरह टूट चके परिवार को ऊपर से और डरा धमका रहे हैं। जिससे उनका ट्रांसपोर्टेशन का धंधा भी चौपट हो गया है। ऋतिक कुमार ने अब चीफ जस्टिस और मुख्यमंत्री को पत्राचार कर पिता को न्याय दिलाने की गुहार लगाई है।

वहीं महामहिम राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को भी न्याय के लिए पाती भेजी है। हिरासत में लिए गए सुंदर सिंह के भाई दूनी चंद ने कहा कि कुलंग के स्थानीय ग्रामीणों ने झूठी गवाही देकर उसके बेगुनाह भाई को फंसाया है। उन्होंने मामले की उच्च स्तरीय जांच का जिम्मा एसआईटी और सीबीआई को सौंपने की मांग की है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams