News Flash
cow hill breed

समीक्षा बैठक में बोले पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर

कहा-पशुपालन किसानों की आर्थिकी का महत्वपूर्ण हिस्सा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
पशुपालन प्रदेश के किसानों की आर्थिकी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। प्रदेश सरकार पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं कार्यान्वित कर रही है। यह बात पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने वीरवार को शिमला में पशुपालन विभाग के कार्यकलापों की समीक्षा करते हुए कही।

कंवर ने कहा कि विभाग ने केंद्र सरकार को प्रदेश में मुर्रा भैंस फार्म स्थापित करने, साहिवाल गाय फार्म स्थापित करने, गौकुल ग्राम स्थापित करने व पशुपालकों को उनके घरद्वार पर चल पशु चिकित्सा उपलब्ध करवाने के लिए विभिन्न परियोजनाएं भेजी हैं। इसके अलावा प्रदेश की पहाड़ी गाय के संरक्षण व इस नस्ल को पहचान दिलवाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने विभाग द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न केंद्रीय व राज्य प्रायोजित परियोजनाओं की समीक्षा की और विभाग के अधिकारियों को इन योजनाओं को समयबद्ध तरीके से कार्यान्वित करने के निर्देश दिए।

वीरेंद्र कंवर ने कहा कि बकरी पालन किसानों की आय का एक बड़ा जरिया बन सकता है और राज्य में इसे बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बकरी पालन योजना के तहत लाभार्थियों का चयन करके उत्तम नस्ल की बकरियां उपलब्ध करवाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने अधिकारियों को राजस्थान के पशुपालन विभाग से संपर्क करने को कहा है, ताकि किसानों को अच्छी नस्ल की बकरियां लाभार्थियों को उपलब्ध करवाई जा सकें। उन्होंने कहा कि बकरी पालन के बारे में किसानों को जागरूक किया जाना चाहिए और उन्हें इसके तौर-तरीके भी बताए जाएं।

बेसहारा पशुओं पर अत्याचार चिंताजनक

कंवर ने बेसहारा पशुओं पर किए जा रहे अत्याचारों पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि एक सभ्य समाज में इस प्रकार की कू्ररता निंदनीय है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को जख्मी, बीमार बेसहारा पशुओं को समुचित स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने को कहा। उन्होंने लोगों से भी अपील की कि कहीं पर लावारिस पशु बीमार और चोटिल पाया जाता है, तो इस संबंध में तुरंत पशुपालन विभाग के कर्मचारियों को अवगत करवाएं, ताकि उपचार किया जा सके।

सूअर पालन की संभावनाएं तलाशेगी सरकार

वीरेंद्र कंवर ने प्रदेश में सूअर पालन की संभावनाओं का पता लगाने को भी कहा, ताकि सूअर पालन को प्रदेश में प्रचलित कर किसानों की आय में वृद्धि की जा सके। मंत्री ने पशुपालकों को विभिन्न योजनाओं और सरकार की नस्ल सुधार नीति की जानकारी उपलब्ध करवाने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभिन्न माध्यमों की ओर से विभाग की गतिविधियों का प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए।

यह भी पढ़ें – स्वच्छता पखवाड़ा के तहत चुक्कू स्कूल के विद्यार्थियों ने निकाली जागरूकता रैली

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams