News Flash
suresh chandel

राजनीति – शादी समारोह के बहाने चुनावी माहौल में सियासी मुलाकात

  • उर्मिल ठाकुर के पुत्र रूबल ठाकुर की हो रही है शादी
  • कांग्रेसियों सहित कई भाजपाई भी पहुंचे सामाजिक सारोकार निभाने

सुरेंद्र कटोच। हमीरपुर
बात भाजपा से दो बार हमीरपुर से विधायक रही स्वर्गीय ठाकुर जगदेव चंद की पुत्र बधु उर्मिल ठाकुर के पुत्र रूबल ठाकुर की शादी समारोह की है, जहां शनिवार से ही शादी की रस्में निभाई जा रही है। रविवार को चल रही धाम में रिश्तेदारों के अलावा कांग्रेसियों सहित कई भाजपाई भी समारोह की रस्मों में सामाजिक सरोकारों को निभाने पहुंचे। ये सिलसिला चल ही रहा था कि दोपहर बाद चार बजे के बाद हाल ही में भाजपा छोड़ कांगे्रस में शामिल हुए सुरेश चंदेल भी उर्मिल ठाकुर को बधाई देने आ पहुंचे।

इस दौरान सियासत की दहलीज से परे हट कर दोनों दलों के कई छोटे बड़े नेता भी रूबल ठाकुर को आशीर्वाद व उर्मिल को बधाइयां देने आ व जा रह थे। जैसे ही चंदेल पहुंचे तो वहां उपस्थित कई भाजपाइयों की आखों में हैरानी देखी जाने लगी। यही नहीं कई भाजपाई तो अपना स्थान छोड़कर दूसरे स्थान पर खिसकते भी देखे गए।

सुरेश चंदेल ने उर्मिल से करीब आधा घंटा बात की और फिर वे भोजन करने उठ गए। बेशक चंदेल व उर्मिल की बात सियासत से न जुड़ी हो, लेकिन जब चुनावी प्रचार गति से चल रहा हो तो ऐसे में कई मायने इन मुलाकातों के निकलते है। ऐसा माना जा रहा है कि चंदेल ने उन्हें शादी समारोह से फ्री होकर कांग्रेस का साथ देने पर चर्चा की है।

उर्मिल ने इस मसले पर चंदेल को आश्वासत तो नहीं किया, लेकिन राजनीति में होने के चलते संभावनाओं से भी इंकार नहीं किया है।

बताते चलें कि हाल ही में उर्मिल ठाकुर की घर वापसी को लेकर करीब दो बार प्रदेश स्तर पर योजना बनाई गई, लेकिन एक नेता उनकी वापसी पर इस कदर अड़ गए कि अब भाजपा को उर्मिल को लाना या न लाना न खाने जैसा लग रहा है और न उगलने जैसा बन रहा है। एक ओर जहां अनुराग ठाकुर चुनाव प्रचार में कांग्रेस से कहीं आगे निकल चुके हैं, लेकिन फिर भी चुनाव को गंभीरता से लेते हुए प्रदेश स्तर के नेता उर्मिल ठाकुर की वापसी अन्य नेताओं की भांति आवश्यक मान रहे हंै।

उर्मिल ने वर्ष 2014 के चुनावों में भाजपा से नाराजगी जताते हुए पार्टी छोड़ कांग्रेस का मंच साझा कर लिया था, लेकिन उसने अभी तक कांग्रेस की सदस्यता तक नहीं ली है। शादी समारोह के बाद उर्मिल का चुनावों के प्रति क्या रूख रहता है, यह तो वक्त ही बताएगा, फिर भी अधिकांश भाजपाइयों की उनके घर शादी में शारीक होना कहीं न कहीं उर्मिल को भाजपा के पक्ष में कार्य करवाने के संकेत भी हो सकते हैं। बहरहाल उससे पहले ही चंदेल की समारोह के बहाने हुई मुलाकात खासी चर्चा में आ गई है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams