News Flash
snowfall bharmaur

रोजमर्रा की जरुरत का सामान नहीं कर पाए हैं लोग एकत्रित

मवेशियों को चारे की व्यवस्था न होने से भी जनजातीय क्षेत्र के लोग हैं परेशान

हिमाचल दस्तक, विनोद ठाकुर। भरमौर

बर्फबारी के सरप्राइज ने जनजातीय क्षेत्र की जनता की चिंता बढ़ा दी है। बर्फबारी की वजह से जहां भेड़पालक परेशान हैं तो वहीं, आम आदमी के जनजीवन को भी अचानक हुई इस बर्फबारी ने परेशानी में डालने का काम किया है। क्योंकि, अचानक उस वक्त बर्फबारी हुई है जब लोग अपने रोजमर्रा की जरुरतों के हिसाब से अपने लिए सामान एकत्रित करते हैं साथ ही मवेशियों को चारे की व्यवस्था करने की अहम भूमिका इन्हीं दिनों में रहती है। अब जब अचानक बर्फबारी हुई है तो मवेशियों को चारे की व्यवस्था करने के अलावा अपने परिवार के लिए रोजमर्रा की जरूरें पूरी करने की भी टेंशन जनजातीय क्षेत्र की जनता के लिए पैदा हो गई है।

snowfall bharmaur

सर्दियों की दस्तक के साथ गर्म इलाकों को रवाना भेड़पालक फंसे बीच रास्ते में

जनजातीय क्षेत्र भरमौर में पिछले चौबीस घंट से रुक-रुक कर हो रही बारिश और बर्फवारी ने यहां से जालसू पास होकर निचले इलाकों को जाने वाले भेड़पालको के कदम रोक लिए है।जालसू पास में हुई भारी बर्फवारी के कारण कई भेड़पालक होली उत्तराला पैदल मार्ग में फंस गए हैं। गौरतलब है कि भरमौर के भेड़पालक के दर्रों के माध्यम से जिला कांगड़ा , ऊना व पंजाब की ओर सर्दियों की दस्तक के साथ ही अपने पशुधन के साथ कूच कर जाते हैं। इन दर्रों में अधिकतर दर्रे भेड़पालको की आवाजाही के लिए अक्तूबर माह में ही बन्द हो गए थे लेकिन इकलौता जालसू दर्रा खुला था वो भी अब भारी बर्फवारी के कारण बंद हो चुका है।

snowfall bharmaur

इस बात से भी भेड़पालक चिंतित

भेड़पालकों ने अपने भेड़ों की अभी हाल ही में ऊन निकाली है। ऐसे में अचानक उन पर गर्म इलाकों की ओर कूच करते हुए बर्फ के फाहे गिरने पर उनकी सेहत पर विपरीत असर होने का भय भेड़पालकों को है। साथ ही इन दिनों ब्रीडिंग का भी समय रहता है। इसलिए भेड़पालक इस बात से भी चिंतित हैं कि अचानक हुई बर्फबारी का दौर नहीं थमता है तो फिर इससे भी उनकी भेड़-बकरियों की सेहत पर बुरा असर रहेगा।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]