atmosphere of terror

मतदान से 24 घंटे पहले सियासी माफिया के मंसूबों से सहमा हमीरपुर

रविंद्र चंदेल। हमीरपुर
जीत के लिए चीखते प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार बंद होने के बाद डोर-टू-डोर चुनाव प्रचार में रात भर मतदाताओं को जगा-जगाकर मतों के लिए मिन्नतें की। पूरे जिले में सत्ता के धुरंधरों का यहीं हाल रहा। हकीकत की पहरेदारियों व पेरोकारियों के बीच कानून व्यवस्था को चुनौती देते हुए माफिया की तर्ज पर चुनावी माहौल को हिंसक बनाने की सूचनाएं करीब-करीब हर क्षेत्र से आई।

डराती-गुर्राती कातिल नजरों के प्रतिशोध की ज्वाला में सियासतदानों के गुर्गे चुनाव से 24 घंटे पहले 7 नवंबर की रात को विभिन्न हथकंडे अपनाकर आतंक के माहौल को बरकरार रखने के कुप्रयास करते रहे। बड़सर में जहां मीडिय़ा की गाड़ी को निशाना बनाया गया। वहीं क्षेत्र में अखबार बांटने वाले को थर्ड डिग्री टॉर्चर देकर सोशल मीडिया पर वायरल किया गया वीडियो से दहशत फैलाने का इंतजाम भी किया गया। भोरंज में जहां प्रत्याशी की परिजन के खिलाफ बांटे परचों के बाद भी तनाव पूर्ण माहौल के बीच लोग खौफजदा रहे।

पार्टियों की जुवान पर माफिया होती जा रही राजनीति ने ताले जड़ दिए

कौन जीतेगा और कौन हारेगा यह नतीजों के बाद की बात है, लेकिन चुनाव में पैदा हुए माफिया राजनीति को कायम करने के आरोपों से दोनों ही दल नहीं बच सकते हैं। हमीरपुर के राजनीतिक इतिहास में शायद ये पहली मर्तबा होगा कि 9 नवंबर को सियासी माफिया की दहशत के बीच पोलिंग बूथ तक अपना कल्याण करने वाले के चुनाव के लिए जाना होगा। आलम यह है की प्रत्याशियों की छवि को लेकर पार्टियों की जुवान पर माफिया होती जा रही राजनीति ने ताले जड़ दिए हैं।

भ्रष्टाचार के आरोपों से एक कदम आगे बढ़कर सगीन आरोप पार्टी उम्मीदवारों पर लगे हैं। तोहमतों, इल्जामों के बीच चुनावी मुकद्दर में अगर चुनाव की घड़ी में मतदाता को नेता वीआईपी मानकर पहरेदारी कर रहा है तो चुनाव के बाद मतदाता से बफादारी क्यों नहीं यह वह सवाल है कि जिसे सोच-समझकर 9 नवंबर को हमीरपुर का मतदाता चुनाव मत देने जाएगा।

अगर चुनाव की बेला में हर नेता मतदाता से तरफदारियां चाह रहा है तो चुनाव के बाद राजसी मुद्रा धारण कर वीआईपी बनने वाले माननीयों के चुनाव से भी मतदाता को बचना होगा। इस बार के चुनाव प्रचार में जहां सत्ता पक्ष का गुरूर निकाल दिया है, वहीं विपक्ष का संभावित सरूर भी चुनाव से पहले ही उतार कर रख दिया है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams