kamrunaag

फेरे के दौरान देवता के 13 तोगड़ों की होगी पूजा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। सुंदरनगर
बड़ा देओ कमरूनाग 25 दिसंबर को अपने लाव-लश्कर के साथ 13 हारी के फेरे पर निकलेंगे। देवता का यह हारी फेर पांच वर्षों के उपरांत आयोजित किया जाता है। इस हारी के फेर में देवता के 13 तोगड़ों की पूजा की जाती है। देवता रोहांडा चौकी, सरण, खलांग, पौडाकोठी, सेगल, सेशधार, तुरांडी, तरजुगी, गडोबरा, औकल आदि हारियों के फेरे पर एक माह रहेंगे। इस हार फेरे को जतरबाड़ा मेला कहा जाता है।

इस जतरबाड़ा मेले के दौरान देवता के कारदार भेरा (अतिथ्य ग्रहण करना) पर रहते हैं। 13 हारियों में देवता के तोगड़ों की पांच वर्षों के उपरांत पूजा-पाठ किया जाता है। इस पूजा में तोगड़े की कलया एवं जागृति मुख्य रूप से शामिल है। इस जतरबाड़ मेले का 13 हारी के लोगों एवं देवता के कारदारों बेसब्री से इंतजार रहता है। हारी फेरी के उपरांत देवता एक माह के बाद मझोठी स्थित कोठी में वापस पहुंचेंगे।

जानकारी देते हुए सचिव दूनी चंद ठाकुर ने बताया कि इस जतरबाड़ा मेले के लिए देवता के सभी प्राचीन वाद्य यंत्रों को ले जाया जाता है। जतरबाड़ा जातर के सफल आयोजन 13 हारी के कारदारों के साथ बैठक आयोजन किया गया। इस बैठक में प्रधान प्रेम सिंह, रूप चंद, गुर मुनी लाल, चुन्नी लाल, विजय कुमार, हेमंत कुमार सहित हारी के कारदार मौजूद रहे।

युवा पीढ़ी को मौका देकर बनाया इतिहास – शांता

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams