house dangerous

बरसात के चलते दशहत में परिवार, प्रशासन से लगाई मदद की गुहार

  • भवन के लिए खुदाई के चलते हुआ रिहायशी मकान को खतरा

चंद्र ठाकुर। नाहन
महीपुर पंचायत के बेचड़ का बाग में एक भवन के लिए की गई खुदाई से साथ लगते दो मंजिले रिहायशी मकान को खतरा हो गया है। आलम यह है कि इस मकान में रहने वाले लोग दहशत के साए में जी रहे हैं। बरसात के चलते स्थिति और भी गंभीर हो गई है। यह मकान कभी जमीदोज हो सकता है। हालांकि प्रशासन की ओर से मौके का मुआयना कर प्रभावित परिवार को तिरपाल दी गई है। मगर रिहायशी मकान के आगे जगह खाली होने से बरसात में मकान को खतरा बना हुआ है। प्रभावित परिवार ने पंचायत व जिला प्रशासन को इस बारे अवगत करवा उन्हें उचित सहायता देने की मांग की है।

जानकारी के अनुसार बेचड़ का बाग निवासी कुलदीप कुमार पुत्र सुरेंद्र सिंह के मकान के आगे एक अन्य व्यक्ति द्वारा भवन निर्माण के लिए कुछ समय पहले जगह की खुदाई की गई थी। खुदाई करने के बाद उक्त व्यक्ति द्वारा आगामी कार्य अभी तक शुरू नहीं किया गया है। बरसात के चलते अब कुलदीप के मकान को खतरा पैदा हो गया है। कुलदीप सिंह ने बताया कि उक्त व्यक्ति द्वारा मकान के आगे डंगा लगाने की बात कही गई थी। मगर इतना समय बीत जाने के बाद भी डंगा नहीं लगाया गया। अब बरसात के चलते उनके मकान को खतरा पैदा हो गया है। परिवार के सदस्य दहशत के साये में जी रहे हैं।

आंगन के आगे खाई होने के कारण उन्हें हमेशा बच्चों की फिक्र लगी रहती है

उन्होंने बताया कि मकान के आगे खाई होने के कारण यहां पर कई मर्तबा दुर्घटनाएं हो गई है। एक बार तो उनके किरायेदार का एक बच्चा भी इस खाई में गिरकर चोटिल हो चुका है। उन्होंने बताया कि उनके छोटे-छोटे बच्चें हैं जो घर के आंगन में खेलते हैं। आंगन के आगे खाई होने के कारण उन्हें हमेशा बच्चों की फिक्र लगी रहती है। बरसात में तो स्थिति और भी गंभीर हो गई है। बारिश के चलते डंगा आगे से गिरना शुरू हो गया है। ऐसे में उनके मकान को तो खतरा हो ही गया है साथ ही उन्हें भी वहां पर रहना मुश्किल हो रहा है। उधर पंचायत पदाधिकारियों का कहना है कि उन्होंने प्रभावित परिवार के बारे में प्रशासन को अवगत करवा दिया है।

पंचायत प्रधान सतपाल मान ने बताया कि बेचड़ का बाग में कुलदीप सिंह के मकान को खतरा है। इसके बारे में प्रशसान को अवगत करवाया गया है। उन्होंने जिला प्रशासन से जल्द से जल्द उक्त परिवार को यथा संभव मदद की मांग की है। एसडीएम विवेक शर्मा से जब इस बारे बात की गई तो उन्होंने बताया कि प्रभावित परिवार की शिकायत उन्हें मिली है। उन्होंने बताया कि तहसीलदार को मौके पर भेजकर उक्त परिवार को तिरपाल आदि मुहैया करवाई गई है। तहसीलदार से रिपोर्ट मंगवाई गई। रिपोर्ट के बाद मामले में आगामी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें – ड्राइंग और शारीरिक शिक्षकों के पदों पर संकट

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams