News Flash
Una College, 50 years old today, between the ups and downs

50 बच्चों से शुरू हुआ सफर पहुंचा 4 हजार के पार, नैक से मिला गे्रड बी तो यूजीसी का श्रेष्ठ कॉलेज, कलस्टर विवि या रिजनल सेंटर की उठ रही मांग

राजीव भनोट, ऊना। 5 दिसंबर भले ही जिला वासियों के लिए कुछ खास दिन नहीं है। लेकिन ऊना कॉलेज सहित कॉलेज से शिक्षा ग्रहण कर चुके बच्चों के लिए काफी अहम है।

आज पीजी कॉलेज ऊना को पूरे 50 वर्ष पूरे हो चुके है, जिसके चलते कॉलेज प्रशासन द्वारा गोल्डन जुबली का कार्यक्रम किया जा रहा है। कॉलेज के 50 वर्ष पूरे होने पर 5 दिसंबर से दो दिवसीय गोल्डन जुबली कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। करीब 50 विद्यार्थियों को शिक्षा देने से शुरू हुआ  कॉलेज ये सिलसिल अब 4000 विद्यार्थियों को भविष्य संवारने में जुटा हुआ है। परिसर में उपलब्ध सुविधाओं के आंकलन के पश्चात कॉलेज को नैक द्वारा बी श्रेणी के ग्रेड से नवाजा गया है। वहीं विवि अनुदान आयोग ने ऊना महाविद्यालय को श्रेष्ठ सक्षम विद्यालय में शामिल किया है। इस श्रेणी में हिमाचल का यह एकमात्र कॉलेज है। ऊना कॉलेज को मंडी कॉलेज की तर्ज पर कलस्टर विवि बनाने या फिर विवि का रिजनल सेंटर खोलने की मांग भी उठ रही है।
राजकीय महाविद्यालय ऊना की स्थापना वर्ष 1968 में हुई। शुरूआती दौर में ऊना कॉलेज डीएवी स्कूल के भवन में चलता था, लेकिन बदलते समय के साथ-साथ अब जिला का सबसे बड़ा कॉलेज बन गया है। कॉलेज में केवल आर्टस और विज्ञान संकाय ही शुरू हुआ। इसके बाद वर्ष 1990 में ऊना महाविद्यालय ऊना-नंगल रोड पर शिफ्ट कर दिया गया। जहां सबसे पहले परिसर में साईंस ब्लॉक का निर्माण किया गया। वर्ष 1994 में महाविद्यालय में वाणिज्य संकाय भी शुरू कर दिया गया। इसके बाद महाविद्यालय में अन्य कोर्स बीबीए, बीसीए, पीजीडीसीए, एमबीए, जर्नलिज्म सहित अन्य कोर्स भी विद्यार्थियों को घर द्वार पर मिलने लगे।
एमबीए-एमसीए के लिए ऊना महाविद्यालय जिला का एकमात्र सरकारी कॉलेज है, जहां पर प्रोफेशनल कोर्स एमबीए व एमसीए की शिक्षा भी विद्यार्थियों को दी जा रही है। पिछले कुछ वर्ष से कॉलेज में बीवॉक के कोर्स भी करवाए जा रहे हैं, जिनमें कौशल विकास भत्ता भी दिया जा रहा है। कॉलेज में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विवि का अध्ययन केंद्र भी संचालित किया जा रहा है, जिसके माध्यम से उन विद्यार्थियों को लाभ हो रहा है, जो नियमित शिक्षा नहीं कर पातें। कॉलेज में व्यवसायिक पाठ्यक्रम भी चलाए जा रहे हैं। वहीं खेलकूद के साथ-साथ एनसीसी, एनएसएस, रोवर्स और रेंजर भी सुचारू रूप से चले रहे हैं।

जिला के नेता इसी कॉलेज के मोती 

ऊना महाविद्यालय से शिक्षा ग्रहण कर विद्यार्थियों ने कई फील्डों में अपनी विशेष पहचान बनाई है। यहां से मौजूदा समय में  नेता प्रतिपक्ष व पूर्व उद्योग मंत्री मुकेश अग्रिहोत्री, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती, सामान्य उद्योग निगम के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, ऊना सदर के विधायक सतपाल सिंह रायजादा सहित अन्य नेता व बड़े अधिकारी भी ऊना कॉलेज से निकले हैं। इसके अलावा प्रो कबड्डी में अपनी अलग पहचान बनाने वाले विशाल भी ऊना कॉलेज से पढ़े हैं। यही नहीं रणजी खिलाड़ी राजीव नैय्यर, जसवंत, संजय ठाकुर, शंभु भी इसी कॉलेज से पढ़कर आगे बढ़े है।

कलम के सिपाही भी कॉलेज से

ऊना कॉलेज में चाहे पत्रकारिता व जनसंचार का कोर्स कुछ वर्ष पहले आया हो, लेकिन जिला मुख्यालय पर प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में कार्यरत्त कलम के सिपाही इसी कॉलेज के मोती है। ऊना कॉलेज से निकलकर पत्रकारिता में अनेक छात्रों ने अपनी अलग पहचान बनाई है। प्रेस क्लब ऊना के अध्यक्ष सुरेंद्र शर्मा, उपाध्यक्ष विजय शर्मा, महासचिव जितेंद्र कंवर, राजेश शर्मा, कॉलेज में पढऩे के साथ-साथ कॉलेज की खबरों पर भी पैनी नजर रखते हैं।

गोल्डन जुबली के अतिथि

गोल्डन जुबली के पहले दिन 5 दिसंबर को प्रदेश के शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज बतौर मुख्यातिथि शिरकत करेंगे। इसके अलावा सांसद अनुराग ठाकुर, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती व उच्च शिक्षा निदेेशक डा. अरमजीत शर्मा विशेष अतिथि के रूप में शिरकत करेंगे। वहीं 6 दिसंबर को प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बतौर मुख्यातिथि, जबकि पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सपताल सिंह सत्ती, प्रदेश विवि के कुलपति प्रो. सिंकदर कुमार, सामान्य उद्योग निगम के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, हिमुडा के वाइस चेयरमैन प्रवीण शर्मा, विधायक बलवीर चौधरी व विधायक राजेश ठाकुर विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]