विधायक के स्टाफ को हथकड़ी लगाने की हो रही पुष्टि

हिमाचल दस्तक,राजीव भनोट।ऊना

पेखूबेला शराब प्रकरण की सीआईडी क्राइम ने जांच शुरू कर दी है। इस सिलसिले में सीआईडी क्राइम के एसपी रमन कुमार मीणा ऊना पहुंच गए हैं। उन्होंने वीरवार को यहां सर्किट हाउस में उक्त मामले को लेकर आरोपियों और एसआईयू टीम से पूछताछ की। यह सिलसिला सेट नंबर 18 में कई घंटे तक चला।

जहां एसपी ने अलग-अलग उक्त लोगों से पूछताछ की। इस दौरान रेस्ट हाउस के फस्ट फ्लोर पर पुलिस कर्मी भी तैनात रहे।प्रारंभिक जांच में हथकड़ी लगाए जाने की बात की पुष्ठी हुई है, इसे ही कांग्रेस गम्भीर आरोप मान कर चल रही है। हलाकि आधिकारिक रूप से कोई भी कुछ नही बोल रहा। गुरुवार को एसपी रमन कुमार मीणा के समक्ष सदर कांग्रेस विधायक के पीएसओ मोहिंद्र सिंह से पेश हुए। जिनसे काफी देर तक पूछताछ की गई।

मोहिंद्र सिंह पर एसआईयू टीम के साथ मारपीट करने का आरोप है। इससे पहले मीणा ने एसआईयू के कॉन्स्टेबल अनिल दत्ता और नितिन से शराब मामले के दौरान हुई मारपीट बारे विस्तृत जानकारी हासिल की। पूछताछ का यह क्रम बार बार चलता रहा। मालूम रहे कि बुधवार रात को सीआईडी क्राइम के एसपी रमन कुमार मीणा ऊना पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने पुलिस से उक्त मामले से संबंधित रिकॉर्ड अपने कब्जे में लिया।

12 अगस्त को पकड़ी थी शराब

मालूम रहे कि 12 अगस्त की रात को एसआईयू स्पेशल इंवेस्टीगेशन यूनिट ने पेखूबेला में मारूति कार से अवैध शराब बरामद की थी। जिस पर टीम ने आरोपी अरुण कुमार उर्फ रिक्की को हिरासत में लिया था। लेकिन बाद में एसआईयू टीम के साथ कथित रूप से मारपीट की गई। पुलिस ने एसआईयू टीम से मारपीट करने के आरोप में सदर के विधायक के पीएसओ और ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया था।

इसके अलावा विधायक की कार को भी जब्त कर लिया गया था। दूसरे दिन पुलिस ने विधायक के पीए मुकेश कुमार और एक अन्य युवक नंदन को गिरफ्तार किया था। इस तरह उक्त मामले में पांच गिरफ्तारियां हुई थी। बाद में कोर्ट से पांचों आरोपियों को अग्रिम जमानत मिल गई थी। लेकिन बाद में मामला राजनीतिक तूल पकड़ गया।

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें