Vaishinda of Panga Village, in the shadow of the tiger

लोगों का जीना हुआ मुश्किल , वन विभाग ने तेंदुआ पकडऩे की मांग

हिमाचल दस्तक। बिलासपुर : उप मण्डल स्वारघाट के अंतर्गत ग्राम पंचायत कुटेहला के तहत गांव पंगा के वाशिंदों का इन दिनों बाघ ने जीना हराम कर दिया है। लोगों को अपनी जमीन में काम करना मुश्किल हो चुका है। बाघ अब तक एक बकरी व कई पालतू कुत्तों का शिकार कर चुका है। अब तो उक्त बाघ लोगों पर हमला भी करने लग चुका है।

अप्पर पंगा गांव के गोपाल चन्द ने बताया कि वीरवार को दिन में ही बाघ उनकी बकरी को उनकी जमीन में से उठा कर ले गया। एक अन्य व्यक्ति श्रवण कुमार ने बताया कि शुक्रवार के दिन शाम के वक्त अपने खेतों में काम कर रहा था कि अचानक कहीं से आकर बाघ ने उन पर हमला कर दिया गनीमत इतनी रही कि उक्त व्यक्ति को बाघ के हमले का आभास हो गया तथा वहां से भाग कर अपनी जान बचाई। पंगा निवासी दीप चन्द, महेंद्र सिंह, सुभाष चंद, चमन लाल, संध्या लाल, मनोज कुमार,जोगिंद्र सिंह, भाग सिंह ने बताया कि उन्हें शाम ढलते ही अपने घरों में दुबकने पर विवश होना पड़ रहा है बच्चों को कहीं पर अकेले भेजने से डर लगने लगा है क्योंकि बाघ दिन दिहाड़े घरों के समीप ही हमले के लिए घाट लगाए बैठा रहता है।

उन्होंने प्रशासन व वन विभाग से गुहार लगाई है कि इस बाघ के आदमखोर होने से पहले ही इसका उचित इंतजाम किया जाए । ताकि किसी भी अनहोनी घटना से बचा जा सके। उधर, वन परिक्षेत्र अधिकारी वन परिक्षेत्र स्वारघाट शंकर लाल से इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि पहले भी इस बाघ को पकडऩे के लिए प्रयास किया जा चुका है लेकिन विभाग को सफलता नही मिली है। यदि उच्चाधिकारी इसे पकडऩे के लिए बाहर से कोई माहिर टीम का प्रबंध करें तभी यह बाघ पकड़ में आ सकता है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया है कि अपने घरों से सावधनी के साथ निकलें उनकी समस्या से विभाग के उच्च अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा ताकि समय रहते बाघ पर काबू पाया जा सके।

राजेंद्र

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams