vigilance

कांग्रेस आरोप पत्र के आधार पर चल रही जांच बंद

विजिलेंस ने की पुराने केस बंद करने की तैयारी

आरपी नेगी। शिमला
पूर्व कांग्रेस सरकार के खिलाफ भाजपा द्वारा लाई गई चार्जशीट की जांच के लिए स्टेट विजिलेंस ने तैयारी पूरी कर ली है। हालांकि प्रदेश सरकार ने अभी तक चार्जशीट विजिलेंस को नहीं सौंपी है, लेकिन विधानसभा शीतकालीन सत्र समाप्त होने के बाद यह प्रक्रिया शुरू होने के आसार हैं। हालांकि अभी ये फैसला मुख्यमंत्री लेंगे कि चार्जशीट की जांच विजिलेंस को दी जाएगी या नहीं? गौर रहे कि दिसंबर 2016 में प्रदेश भाजपा ने पूर्व कांग्रेस सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप के साथ चार्जशीट प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत को सौंपी थी।

इसमें वीरभद्र सिंह सहित उनके सहयोगी पूर्व मंत्रियों पर भ्रष्टाचार और अनियमितताओं के आरोप लगाए थे। इसमें सिर्फ पूर्व मंत्री धनीराम शांडिल को छोड़कर अन्य सभी पूर्व मंत्रियों के खिलाफ आरोप लगे थे। आरोप पत्र राज्यपाल ने तब सरकार को भेज दिया था और ये पहले ही सरकारी रिकॉर्ड में है। जानकारी के मुताबिक प्रदेश सरकार जल्द ही विजिलेंस के एडीजीपी सहित निचले तबके के सभी अधिकारियों के तबादला करने जा रही है।

जयराम ठाकुर शिमला पहुंचेंगे और बीजेपी चार्जशीट की जांच पर गृह विभाग से कर सकते हैं चर्चा

गृह विभाग ने इस संदर्भ में सूची भी तैयार कर दी है, लेकिन विधानसभा शीतकालीन सत्र के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर शिमला पहुंचेंगे और बीजेपी चार्जशीट की जांच पर गृह विभाग से चर्चा कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक पूर्व की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान कांग्रेस चार्जशीट पर विजिलेंस ने जांच शुरू की थी।

इसमें कुछ कोर्ट के अधीन हैं और अधिकांश आरोप साबित नहीं हुए। विजिलेंस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पूर्व की वीरभद्र सरकार के दौरान चल रही जांच अब बंद पड़ी है। जो सिर्फ कागजों में ही सिमट कर रह जाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल की आय से अधिक संपत्ति मामले में विजिलेंस ने करीब तीन साल जांच में लगा दिए, लेकिन कुछ भी सबूत नहीं मिला। प्रदेश में अब सत्ता परिवर्तन होते ही विजिलेंस ने कई ऐसे केस पर जांच बंद कर दी है।

विजिलेंस का पूरा स्टाफ बदलने की तैयारी

प्रदेश सरकार स्टेट विजिलेंस के मुखिया से लेकर पूरा स्टाफ बदलने की तैयारी में हैं। पूर्व की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में कांग्रेस चार्जशीट की जांच कर रहे पुलिस अफसरों के तबादले तय हैं। यहां तक कि विजिलेंस के एडीजी श्याम भगत नेगी के स्थान पर किसी अन्य आईपीएस अफसर की तैनाती जल्द होगी। जानकारी के मुताबिक पुलिस मुख्यालय में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर डॉ. अतुल वर्मा को एडीजी विजिलेंस की कमान मिल सकती है। इसके साथ ही विजिलेंस में इंस्पेक्टर से लेकर विजिलेंस थाना प्रभारी के भी तबादले हो सकते हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams