Virbhadra

चौथी विधानसभा सीट होगी ये वीरभद्र सिंह के लिए

  • विद्या स्टोक्स ने लिया 43 साल बाद चुनाव नहीं लडऩे का फैसला
  • मुख्यमंत्री के लिए छोड़ी बागवानी मंत्री ने सीट

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह अब चौथी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने शिमला ग्रामीण सीट अपने बेटे विक्रमादित्य सिंह के लिए छोड़ दी है और वह स्वयं ठियोग से चुनाव लड़ेंगे। ये लगभग तय हो गया है, क्योंकि बागवानी मंत्री विद्या स्टोक्स भी ठियोग चुनाव क्षेत्र छोडऩे को तैयार हो गई हैं। वह अब चुनाव ही नहीं लड़ेंगी।

ऐसे में वीरभद्र सिंह चौथी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। पिछली बार वे शिमला ग्रामीण से चुनाव लड़े थे। उससे पहले दो बार रोहड़ू और एक बार जुब्बल-कोटखाई से भी चुनाव लड़ चुके हैं। उन्होंने ठियोग को चौथा विधानसभा क्षेत्र चुन लिया है। इससे पहले उनके अपने चुनाव क्षेत्र शिमला ग्रामीण से उनके बेटे विक्रमादित्य चुनाव लडऩे का दावा कर चुके हैं।

स्टोक्स ने 43 साल बाद चुनाव लडऩे से इंकार कर दिया

CM ने ये सीट बेटे के लिए छोड़ दी थी। हालांकि वीरभद्र सिंह ने अभी तक ठियोग से ही चुनाव लडऩे का ऐलान नहीं किया है, लेकिन जो लोग इस बार यहां से टिकट की दावेदारी जता रहे थे, उन्हें इस घटना से झटका लगा है। बागवानी मंत्री विद्या स्टोक्स वर्ष 1974 से कांग्रेस टिकट से चुनाव लड़ते आ रही हैं। वह 1984 प्रदेश सरकार में ग्रामीण विकास राज्यमंत्री बनी थी। स्टोक्स 1985 हिमाचल प्रदेश विधानसभा स्पीकर भी बनीं। 2008 के चुनाव में कांग्रेस विपक्ष में थी तो स्टोक्स को विपक्ष का नेता भी बनाया गया। ऐसे में स्टोक्स ने 43 साल बाद चुनाव लडऩे से इंकार कर दिया है।

उन्होंने साफ कह दिया कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के लिए वे इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गत मंगलवार सांय मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निजी आवास होलीलॉज में दोनों समर्थकों के कांग्रेसियों की बैठक हुई। जिसमें ठियोग विधानसभा सीट से विद्या स्टोक्स नहीं, बल्कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को उतारा जाना सही रहेगा।

BJP की 40 सीटें तय, पांच विधायकों का कटेगा पत्ता

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams