News Flash
Virendra made Kutellahad's fort a distraction

अजय शर्मा, बंगाणा। कुटलैहड़ विस क्षेत्र में 2019 का चुनाव एक बार फिर से कांग्रेस के लिए चुनौती लेकर आ रहा है। लगातार हार का सामना कर रही कांग्रेस अभी भी हार से सबक नहीं ले पाई है। दिखाने को चाहे एकजुटता बताई जा रही है, लेकिन अंदरूनी दिलों की दूरियां कांग्रेस प्रत्याशी राम लाल ठाकुर पर भारी पड़ती नजर आ रही है। जबकि कुटलैहड़ को पहली बार कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिलाने वाले वीरेंद्र कंवर एक बार फिर से कुटलैहड़ के किले को बढ़त के साथ अभेद बनाने की व्यू रचना कर चुके हैं।

वीरेंद्र कंवर लगातार जनता के बीच संपर्क को मजबूत बनाए हुए हैं। वहीं कांग्रेस लोकसभा चुनाव में भी आक्रमक भूमिका में नजर नहीं आ रही है। कांग्रेस में प्रत्याशी रहे विवेक शर्मा मोर्चे पर हैं, तो वहीं 2022 के लिए टिकट के चाहवान अभी से सक्रिय होकर कांग्रेस के प्रचार को पीछे धकलने का काम भी कर रहे हैं। कांग्रेस को इस चुनाव में भी गुटबंदी व अपनी डफली अपना राग की मार पड़ती नजर आ रही है। वहीं वीरेंद्र कंवर ने जिस प्रकार से मंत्री बनने के बाद कुटलैहड़ के विकास को आगे बढ़ाया है, उस से कंवर सेफ जोन में खड़े नजर आ रहे हैं। कुटलैहड़ विस क्षेत्र में कांग्रेस सेंध लगाने का कोई प्रयोग सफल नहीं कर पा रही है।
हलके में पानी की कमी एक बड़ा मुद्दा है। इसके अलावा लोगों में मोदी, अनुराग व भाजपा की खूब चर्चा हो रही है। वीरेंद्र कंवर ने भी बढ़त के लिए सर धड़ की बाजी लगाते हुए हर घर तक दस्तक दे दी है। ऐसे में इस हलके में जहां अनुराग ठाकुर भाजपा की मजबूत एकजुटता पर सवार है, तो वहीं राम लाल ठाकुर को कांग्रेस की दिखावी एकजुटता नुक्सान पहुंचा सकती है। ऐसे में भी देखना होगा कि स्थानीय विधायक व प्रदेश सरकार में मंत्री वीरेंद्र कंवर अपने सवा साल के कार्यकाल के बाद क्या अपनी 5506 मतों की लीड़ को इससे अधिक ले जा पाएंगे या फिर कांग्रेस राम लाल ठाकुर को बढ़त दिला पाएगी।

कुटलैहड़ से मिली लीड़ के आंकड़े

वर्ष          भाजपा           कांग्रेस                 लीड
2014      28532            21935              6597    भाजपा
2017      31101              25595             5506     भाजपा

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams