assembly elections

प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों पर मतदान आज, मैदान में 337 प्रत्याशी

  • बजे तक बूथ पर पहुंचना जरूरी
  • तैयारियां पूरी, बॉर्डर के साथ के बूथों पर सीआरपीएफ के जवान तैनात
  • 50.25 लाख वोटर करेंगे 337 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • सुबह 8 से शाम 5 बजे तक वोटिंग

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
हिमाचल विधानसभा चुनाव में वीरवार को जनता के फैसले का दिन है। सुबह 8 से शाम 5 बजे तक वोटिंग होगी और जनादेश ईवीएम में बंद हो जाएगा। लोकतंत्र के इस महापर्व में वीरवार को 50 लाख से अधिक मतदाता 337 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। प्रदेश की सभी 68 विधानसभा सीटों के इस चुनाव में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार धूमल की साख दांव पर है, क्योंकि कांग्रेस और भाजपा ने इन दोनों को ही नई सरकार का चेहरा घोषित कर रखा है। पहली बार इस चुनाव में ईवीएम के साथ वीवीपैट का इस्तेमाल हो रहा है, ताकि वोटर चेक कर सकें कि उसका वोट सही जगह गया या नहीं? सुरक्षा के सारे इंतजाम कर दिए गए हैं।

प्रदेश में 18 पार्टियों ने अपने उम्मीदवार खड़े किए

सीमाओं के साथ लगते क्षेत्रों में सुरक्षा का जिम्मा सीआरपीएफ को सौंपा गया है। प्रदेश में कल्पा के 100 वर्षीय श्याम सरन सबसे उम्रदराज मतदाता हैं। वह स्वतंत्रता के बाद 1951 के चुनाव में मताधिकार का प्रयोग करने वाले पहले व्यक्ति हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी पुष्पेंद्र राजपूत ने कहा कि चुनावी गतिविधियों पर सीधी निगरानी रखने के लिए 2,307 मतदान केंद्रों में वेब-कास्टिंग का प्रयोग किया जाएगा। चुनाव आयोग ने मतदाताओं को 12 पहचान दस्तावेजों में से किसी भी एक दस्तावेज को प्रस्तुत कर अपना मताधिकार प्रयोग करने की अनुमति दी है।

प्रदेश में 18 पार्टियों ने अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि 68 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 337 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं जिनमें 318 पुरुष व 19 महिला उम्मीदवार शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 112 आजाद उम्मीदवार भी चुनावी मैदान में हैं। प्रदेश में बसपा 42, भाजपा 68, सीपीआई 3, सीपीआईएम 14, कांग्रेस 68, एनसीपी 2, एसपी 2, स्वाभिमान पार्टी 6, लोक गठबंधन पार्टी 6, राष्ट्रीय आजाद मंच 4, नव भारत एकता दल 1, भारतीय हिमाचल जन विकास पार्टी 1, अखिल भारतीय मानवाधिकार राजनीतिक दल 1, बहुजन मुक्ति पार्टी 1, अखिल भारतीय फॉरवर्ड ब्लॉक 2, समाज अधिकार कल्याण पार्टी 2,जनरल समाज पार्टी एक तथा राष्ट्रवादी प्रताप सेना 1 विधानसभा क्षेत्र से लड़ रही हैं। धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 12 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है, जबकि झंडुता में सबसे कम दो उम्मीदवार चुनाव मैदान में किस्मत आजमा रहे हैं।

18 दिसंबर तक स्ट्रांग रूम्स में रहेंगी EVM

वीरवार को प्रदेशभर में मतदान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ईवीएम स्ट्रांग रूम में आ जाएंगी। इनके साथ वीवीपैट को भी साथ रखा जाएगा। इनकी सुरक्षा के लिए राज्य निर्वाचन विभाग ने पूरी सुरक्षा व्यवस्था की है। स्ट्रांग रूम में 24 घंटे पैरा मिलिट्री फोर्स का पहरा रहेगा। इसके अतिरिक्त स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। ये मशीनें अब मतगणना के दिन 18 दिसंबर को ही यहां से निकाली जाएंगी।

देश में पहली बार सारा चुनाव वीवीपैट से

देश भर में हिमाचल पहला ऐसा राज्य होगा जहां पर सभी मतदान केंद्रों पर EVM के साथ वीवीपैट का प्रयोग होगा। चुनाव प्रक्रिया ईवीएम और वीवीपैट दोनों मशीनें पूरी तरह से सुरक्षित हैं। वीवीपैट में केवल मतदान करने वाला व्यक्ति अपने दिए गए वोट को देख सकता है। राज्य निर्वाचन आयोग ने वीवीपैट को लेकर प्रदेश के हर क्षेत्रों में जागरुकता अभियान भी चलाया था। वीवीपैट में मतदान के बाद मतदाता 7 सेकंड तक पर्ची को देख सकता है। इसके बाद पर्ची बाक्स में चली जाएगी।

सुलह विस क्षेत्र में सबसे ज्यादा 96,145 मतदाता

लाहौल-स्पीति विधानसभा क्षेत्र का हिक्किम मतदान केंद्र सबसे 14,567 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां 194 मतदाता हैं। हरोली विधानसभा क्षेत्र का घलावल मतदान केंद्र सबसे कम 328 फुट की ऊंचाई पर स्थित है व क्षेत्र में 985 मतदाता हैं। प्रदेश में जिला कांगड़ा के सुलह विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 96,145 मतदाता हैं, जबकि लाहौल-स्पीति विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 23,231 मतदाता हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams