rock shakes

लोगों की है शिला में गहरी आस्था

बल्ह में बरस्वाण पंचायत के जंगल में पांडवों ने किया था निर्माण

हिमाचल दस्तक । रिवालसर
जिला मुख्यालय मंडी से 32 किलोमीटर दूर बल्ह उपमंडल की बरस्वाण पंचायत के बटुरडा नामक स्थान के साथ लगते जंगल मे ऐसी अदभुत चट्टान है। जिसे सबसे छोटी अंगुली से भी हिलाया जा सकता है। कहते हैं कि यह शिला पांडवों के हुक्के का चुगल था। पांडवों के अज्ञातवास के अनेकों ऐसे किस्से हैं जो लोगों को हैरत में डाल देते हैं। ऐसा कहा जाता है कि हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला के जंगलों में पांडवों ने अज्ञात वास के दौरान काफी समय गुजारा था।

जिसकी निशानियां आज भी देखने को मिल रही है। इहीं निशानियों में से सिद्धकोट जंगल मे स्थित हिलक रोड़ा नाम से प्रसिद्ध शिला में स्थानीय लोगों की गहरी आस्था है। लोग उक्त शिला को दूर-दूर से देखने आते हैं व इसकी पूजा-अर्चना भी करते हैं। हिलक रोड़ा नाम से प्रसिद्ध भीमकाय सी दिखने वाली शिला में एक बेहद अद्भुत और आश्चार्यजनक बात छिपी हुई है। इस भारी भरकम चट्टान को आप अपनी सबसे छोटी उंगली से भी हिला सकते हैं।

हल्का सा भी धक्का देने पर यह भीमकाय शिला बहुत जोर से हिलती है। यकीन न हो तो आप खुद जाकर इसे हिला कर देख सकते हैं। यहां तक पहुंचने के लिए सुंदरनगर से लेदा होते हुए व मंडी से बाया नेरचौक या रिवालसर सड़क मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं। चट्टान को हिलते हुए देखना लोगों को हैरत में डालता है। लोगों ने सरकार से मांग की है कि ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित कर पर्यटन के मानचित्र पर लाएं। जिससे इस क्षेत्र के पर्यटन को बढ़ावा मिल सके।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams