News Flash
Every word of the opposition is valuable to us: Modi

17वीं लोकसभा के पहले सत्र के पहले दिन बोले प्रधानमंत्री, सांसदों से सदन में निष्पक्ष होने की अपील, देश के व्यापक हित से जुड़े विषयों पर दें ध्यान

नई दिल्ली : सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र के प्रथम दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि विपक्ष को अपनी संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है और उनका हर शब्द सरकार के लिए मूल्यवान है। मोदी ने सभी सांसदों से सदन में निष्पक्ष होने और देश के व्यापक हित से जुड़े विषयों पर ध्यान देने का आग्रह किया।

संसद परिसर में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि जब हम संसद आते हैं तो हमें पक्ष और विपक्ष भूल जाना चाहिए। हमें निष्पक्ष भावना के साथ मुद्दों के बारे में सोचना चाहिए और देश के व्यापक हित में काम करना चाहिए। संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष के महत्व को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि विपक्ष सक्रियता से बोलेगा और सदन की कार्यवाही में भागीदारी करेगा।

मोदी-मोदी के नारों के बीच लोस का पहला सत्र शुरू

नई दिल्ली। 17वीं लोकसभा का प्रथम सत्र सोमवार को उत्साह के माहौल के बीच शुरू हुआ तथा सत्ता पक्ष के सदस्यों ने बीच-बीच में भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाए। पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह समेत कई केंद्रीय मंत्रियों तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित 21 राज्यों के 200 से अधिक नवनिर्वाचित सदस्यों ने निचले सदन की सदस्यता की शपथ ली। निचले सदन की बैठक राष्ट्रगान की धुन बजाई जाने के साथ शुरू हुई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन के नेता होने के नाते सबसे पहले शपथ ली। उन्होंने हिंदी में शपथ ली। शपथ लेने के लिए लोकसभा महासचिव ने जैसे ही प्रधानमंत्री मोदी का नाम पुकारा, सदस्यों ने मेजें थपथपाकर उनका स्वागत किया। भाजपा के सदस्यों ने मोदी..मोदी और भारत माता की जय के नारे भी लगाए।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams