चंडीगढ़। पाकिस्तान द्वारा अपने क्षेत्र में सतलुज नदी जल प्रवाह को नियंत्रित करने वाले द्वार खोलने के चलते पंजाब के सीमावर्ती जिले फिरोजपुर के 17 गांवों में बाढ़ आ गई है। हाल में आई बारिश और सतलुज नदी पर बने तटबंध टूटने के कारण फिरोजपुर के कई गांव पहले ही जलमग्न हैं। फिरोजपुर के उपायुक्त चंदर गैंद ने कहा, पाकिस्तान द्वारा कासुर इलाके में हेडवर्क्स (पानी के बहाव को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले) गेट खोलने से हमारी तरफ के 17 गांव प्रभावित हुए हैं।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के कासुर जिले में चमड़े के कारखाने से नदी में छोड़े जाने वाला पानी प्रदूषित है। उन्होंने कहा, पाकिस्तान के कारखानों का प्रदूषित पानी भी नदी में गिर गया जो कैंसर का मुख्य कारण है। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित कासुर जिले को चमड़े के कारखानों के लिए जाना जाता है। कुछ दिनों पहले पाकिस्तान ने भारत पर बिना किसी सूचना के सतलुज नदी में करीब 2,00,000 क्यूसेक पानी छोडऩे का आरोप लगाया था। जिससे देश के विभिन्न इलाकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए थे।

गैंद ने कहा कि सेना और एनडीआरएफ की टीमें प्रभावित इलाकों में बचाव और पुनर्वास अभियान चला रही हैं। उन्होंने कहा, बचाव अभियानों के लिए यांत्रिक नौकाओं को भी लगाया गया है।

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें