कोलकाता:  नेताजी सुभाषचंद्र बोस के परिवार के सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया है कि सात दशक पहले राष्ट्रवादी नेता के लापता होने को लेकर कायम रहस्य से पर्दा उठाने के लिए एसआईटी का गठन किया जाए। उन्होंने मोदी से अपील की कि वह जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से बात कर सुनिश्चित करें कि उस देश के पास पड़े संबंधित दस्तावेजों को सार्वजनिक किया जाए ताकि रहस्य से पर्दा उठे।

नेताजी के रिश्तेदार और भाजपा नेता चंद्रकुमार बोस ने सोमवार को कहा कि विशेष जांच दल में खुफिया ब्यूरो और केंद्रीय गृह विभाग के कर्मी, नेताजी पर शोध करने वाले लोग, फोरेंसिक विशेषज्ञ और नेताजी के परिवार के लोग शामिल हों। वह प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे जिसमें 18 अगस्त का उल्लेख स्वतंत्रता सेनानी की पुण्य तिथि के रूप में किया गया है।

पीआईबी ने रविवार को ट्वीट किया, पीआईबी महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को पीआईबी उनकी पुण्यतिथि पर याद करती है। उन्होंने पीटीआई भाषा से कहा कि 2016 में नेताजी की फाइलों को सार्वजनिक करने के दौरान केंद्र सरकार जापान सरकार के पास मौजूद फाइलों को हासिल करने में विफल रही।

बोस ने कहा कि इन फाइलों में नेताजी के 18 अगस्त 1945 से लापता होने के रहस्य से जुड़े तथ्य हो सकते हैं। उन्होंने कहा, मुझे विश्वास है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, नेताजी के लापता होने से जुड़े तथ्यों को उजागर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। लेकिन मैं नहीं जानता कि क्या पूरी सरकार ऐसा करने में दिलचस्पी रखती है। हम (नेताजी के परिजन) मांग करते हैं कि प्रधानमंत्री को तुरंत एसआईटी (विशेष जांच दल) का गठन करना चाहि ताकि रहस्य से पर्दा उठे।

Published by surinder thakur

IT Head Himachal Dastak Media P. Ltd. Bypass Road kangra Kachiari H.P.

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें