रामकृष्ण मठ और मिशन के प्रमुख एवं पीएम के आध्यात्मिक गुरु स्वामी आत्मस्थानंद महाराज का कल शाम लंबी बीमारी के बाद हुआ निधन 

रामकृष्ण मठ और मिशन के प्रमुख एवं पीएम के आध्यात्मिक गुरु स्वामी आत्मस्थानंद महाराज (99) का कल शाम लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वे फरवरी, 2015 से दक्षिण कोलकाता स्थित रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान में उम्रजनित बीमारियों को लेकर भर्ती थे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है। शनिवार सुबह से उनकी हालत काफी खराब हो गई थी और उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। मुख्यमंत्री ममता उन्हें देखने अस्पताल पहुंची थीं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके निधन पर ट्विटर पर अपने शोक संदेश में कहा-‘स्वामी आत्मस्थानंद महाराज का निधन मानवता के लिए अपूरणीय क्षति है। उन्होंने अपना सारा जीवन सामाजिक एवं धार्मिक कार्यों को समर्पित कर दिया।’

PM Modi ने जताया दुख

PM Modi ने स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने स्वामी के निधन को अपनी निजी क्षति बताया है। मोदी ने ट्विटर पर लिखा कि मैं अपनी जिंदगी के महत्वूपर्ण क्षण में उनके साथ रहा था।

स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के इलाज के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया था, जिसमें 16 डॉक्टर उनकी सेहत पर नजर बनाए हुए थे। अस्पताल सूत्रों के मुताबिक रविवार शाम करीब 5.30 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली।

स्वामी आत्मस्थानंद महाराज 22 वर्ष की उम्र में बेलूरमठ स्थित रामकृष्ण मिशन से जुड़े थे। मई, 2015 में जब PM मोदी कोलकाता आए थे तो उन्होंने अस्पताल जाकर आत्मस्थानंद महाराज से मुलाकात की थी।

संन्यासी बनने से रोका

Modi किशोरावस्था में संन्यासी बनने बेलूरमठ आए थे लेकिन स्वामी आत्मस्थानंद महाराज ने यह कहते हुए उनके अनुरोध को खारिज कर दिया था कि उनकी कहीं और जरूरत है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams