Doklam

Doklam के लिए दोनों देशों को मिलकर करना चाहिए काम

अमेरिका के एक शीर्ष कमांडर ने कहा है कि सिक्किम सेक्टर के Doklam में भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध चिंता का विषय है और इस मुद्दे के राजनयिक समाधान के लिए दोनों पक्षों को मिलकर काम करना चाहिए। भारतीय सैनिकों ने इस क्षेत्र में सड़क निर्माण करने से
चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को रोक दिया था

जिसके बाद से बीते 50 से ज्यादा दिनों से डोकलाम क्षेत्र में भारत और चीन आमने-सामने हैं। अमेरिकी कमांडर एडमिरल हैरी बी हैरिस ने  कहा कि अमेरिका दोनों देशों को अपने मतभेदों को राजनयिक ढंग से सुलझाने के लिए प्रेरित करता है। डोकलाम गतिरोध के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि जब भी दो महान शक्तियां साझा सीमा पर आमने-सामने होती हैं तो यह चिंता का विषय होता है।

दक्षिण और पूर्वी चीन सागर के प्रति चीन की गतिविधियां दुष्टतापूर्ण

हैरिस से पूछा गया कि क्या चीन डोकलाम में वही रणनीति अपना रहा है जो उसने यथास्थिति को बदलने के लिए दक्षिण चीन सागर में अपनाई थी, इस पर उन्होंने कहा कि इसका निर्धारण भारत को करना है। एडमिरल हैरिस ने कहा , इस बात का निर्धारण खुद भारत को ही करना होगा। इस बारे में मैं भारत की ओर से नहीं बोलना चाहता और क्या हो सकता है इस बारे में निश्चित ही कोई अटकलें भी नहीं लगाना चाहता।

मेरा खयाल है कि जैसा अब प्रतीत हो रहा है, यह एक विवाद है और भारत तथा चीन को मिलकर इस पर काम करना होगा। आशा करता हूं कि शांतिपूर्ण ढंग से। हैरिस ने कहा कि दक्षिण और पूर्वी चीन सागर में पड़ोसियों के प्रति चीन की गतिविधियां दुष्टतापूर्ण हैं। उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि पूर्वी चीन सागर और दक्षिण चीन सागर में चीन की गतिविधियां आक्रामक और उसके अपने पड़ोसियों के लिए दुष्टतापूर्ण हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams