यूं छुड़ाएं बच्चे का अंगूठा चूसना

बच्चों का अंगूठा चूसना एक स्वाभिक प्रवत्ति है, लेकिन शिशु जब बड़ा होने लगे, तो उसकी इस प्रवत्ति पर नजर रखना बहुत जरूरी है अन्यथा वे किशोरवस्था तक अंगूठा चूसते रहते हैं। यदि आप चाहती हैं कि आप का बच्चा ऐसा न करे तो आजमाइए ये टिप्स-
– बच्चे को किसी तरह का तनाव न हो इस बात का ध्यान रखें।
– शैशव अवस्था में शिशु को गोद में बैठाकर लाड प्यार करें।
– शिशु को स्तनपान कराने में कोताही न बरतें। उसका स्तनपान धीरे-धीरे छुड़ाएं।
– बच्चे की उपेक्षा न करें और न ही उसमें किसी तरह का भय पनपने दें।
– बच्चे में सुरक्षा की भावना पैदा करें।
– बच्चे को मारे-पीटे नहीं और न ही उसके हाथ बांधें।
– यदि उसके मित्र अंगूठा चूसने वाले हैं तो उनके साथ खेलने ने दें।
– उसकी आवश्यकताओं, उपेक्षाओं और जरूरी मांगों को पूरा करें।
– बच्चे की बातों को अनसुनी न करें, अपितु धैयपूर्वक और सहानुभूति से सुनें।
– यदि बच्चे में कोई हीनभावना व्याप्त हो तो उसे दूर कर उसका आत्मविश्वास बढ़ाएं।
– बच्चे को सृजनात्मक गतिविधियों से जोड़ें और उसे व्यस्त रखें।
– उसे इस बात का अहसास कराएं कि अब वह बड़ा हो रहा है और बड़े बच्चे अंगूठा नहीं चूसते।
– यदि दिनभर में उसने अंगूठा नहीं चूसा , तो इसके लिए उसे शाबाशी दें।
– जब बच्चा अंगूठा चूस रहा है तो उसे आइना दिखाएं कि कितना भद्दा लग रहा है वह।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams