News Flash
ram rahim verdict

सजा मिलते ही कोर्ट के फर्श पर ही बैठ गया राम रहीम

हरियाणा : CBI की विशेष अदालत ने सोमवार को डेरा प्रमुख बाबा राम रहीम को 15 साल पुराने रेप केस में 10 साल की सजा सुनाई है। राम रहीम के 376, 511 और 506 धारा के तहत उन्हें सजा दी गई है। राम रहीम को 25 अगस्त को ही दोषी ठहरा दिया था, लेकिन उन्हें सजा सोमवार को सुनाई गई। उस पर तीन अलग-अलग धाराओं को लेकर 65 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

रोते हुए बोला- कहीं नहीं जाऊंगा

सुरक्षा को देखते हुए रोहतक जेल में ही कोर्ट बनाया गया। दोनों पक्षों के वकील ने जज के सामने अपना-अपना पक्ष रखा। इस दौरान बाबा रहीम चुपचाप खड़ा रहा और वकीलों की दलील सुनता रहा। सुनवाई के दौरान राम रहीम के आंसू निकल आए और वो खूब रोया। रोते हुए राम रहीम ने जज से माफी भी मांगी। राम रहीम बोला कि मुझ पर रहम दीजिए जज साहब।

सजा सुनाए जाने के बाद अब राम रहीम का कैदी नंबर चेंज होगा। अभी तक वह कैदी नंबर 1997 था। उसे अब कैदियों वाले कपड़े पहनने होंगे। उसे जेल मैनुअल के हिसाब से काम भी करना होगा। अभी उसका मेडिकल किया जा रहा है।

कोर्ट में सुनवाई का अपडेट

आखिर में कोर्ट ने राम रहीम को 10 साल की सजा सुनाई। बहस की प्रक्रिया के दौरान राम रहीम शांत होकर खड़े हुए थे। दोनों वकीलों की बात सुनते रहे। सजा के ऐलान के बाद उनको जेल के कपड़े पहना दिए जाएंगे।

बचाव पक्ष की दलीलें

बचाव पक्ष ने कहा कि राम रहीम समाज सेवी हैं। उन्होंन जन कल्याण के बहुत कार्य किए हैं। इसका संज्ञान लेते हुए नरमी बरती जानी चाहिए। वकील ने बाबा की सेहत का भी हवाला दिया कि इनकी तबीयत ठीक नहीं रहती है, इनके साथ नरमी बरती जाए।

बचाव पक्ष के वकील का तर्क था कि कई अनाथ बच्चों को संभालते हैं। सेना के लिए रक्तदान कर चुके हैं। अगर जेल चले गए तो अनाथ बच्चों का लालन-पालन मुश्किल में पड़ जाएगा। इस दौरान बाबा लगातार रोते रहे, और कहते रहे कि जज साहब मुझे माफ कर दो।

दोनों पक्षों को 10-10 मिनट बहस के लिए दिया समय

CBI का वकील इस पर अड़ा रहा कि बाबा को उम्रकैद की सजा होनी चाहिए, क्योंकि जिस समय शिकायतकर्ता साध्वियों के साथ रेप हुआ, उस समय वो नाबालिग थीं। अभियोजन पक्ष ने बलात्कार के दोषी राम रहीम के लिए अधिकतम सजा की मांग की।

सुनवाई शुरू होते ही स्पेशल CBI जज जगदीप सिंह ने दोनों पक्षों को 10-10 मिनट बहस के लिए समय दिया। दोनों वकीलों की दलीलें सुनने के बाद दोनों कहा कि आप बाहर बैठें। इसके बाद जज ने 15 मिनट में सजा का फैसला लिखा गया, फिर सजा का एलान किया।

राम रहीम के पास हाईकोर्ट जाने का विकल्प

राम रहीम के पास अब सजा के खिलाफ अपील करने के लिए हाईकोर्ट जाने का विकल्प है। आज समय कम होने के कारण वह ऐसा नहीं कर पाएगा, लेकिन बहुत संभव है कल वह हाई कोर्ट में अपील दायर करे। इस बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंत्रियों, मुख्य सचिव, गृह सचिव और पुलिस महानिदेशक की बैठक बुलाई है। इसमें कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा हुई। सजा सुनाए जाने के दौरान डेरा प्रेमियों ने सिरसा के फुल्का गांव में दो गाड़ियों में आग लगाई। इसकी सूचना भी कोर्ट को दी गई।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams