News Flash
motivational context

सार-सरिता

एक किसान की एक दिन अपने पड़ोसी से खूब जमकर लड़ाई हुई। बाद में जब उसे अपनी गलती का अहसास हुआ तो उसे ख़ुद पर शर्म आई। वह इतना शर्मसार हुआ कि एक साधु के पास पहुंचा और पूछा, मैं अपनी गलती का प्रायश्चित करना चाहता हूं। साधु ने कहा कि पंखों से भरा एक थैला लाओ और उसे शहर के बीचों-बीच उड़ा दो। किसान ने ठीक वैसा ही किया, जैसा कि साधु ने उससे कहा था और फिर साधु के पास लौट आया।

लौटने पर साधु ने उससे कहा, अब जाओ और जितने भी पंख उड़े हैं उन्हें बटोर कर थैले में भर लाओ। नादान किसान जब वैसा करने पहुंचा तो उसे मालूम हुआ कि यह काम मुश्किल नहीं, बल्कि असंभव है। खैर, खाली थैला ले, वह वापस साधु के पास आ गया। यह देख साधु ने उससे कहा, ऐसा ही मुंह से निकले शब्दों के साथ भी होता है। इसलिए हमेशा अपने शब्दों को तौल कर बोलें।

महान दार्शनिक कन्फ्यूसियस ने कहा है, शब्दों को नाप तौल कर बोलो, जिससे तुम्हारी सज्जनता टपके। भारतीय दार्शनिक जे. कृष्णमूर्ति के अनुसार, कम बोलो, तब बोलो जब यह विश्वास हो जाए कि जो बोलने जा रहे हो उससे सत्य, न्याय और नम्रता का व्यतिक्रम न होगा।

यह भी पढ़ें – प्रेरक प्रसंग – जल्दीबाजी में निर्णय लेने से बचें

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams