akshay tritiya

18 अप्रैल को सर्वार्थसिद्धि योग में मनेगी अक्षय तृतीया

वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया या आखातीज कहते हैं। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार ‘अक्षय’ का अर्थ होता है- जिसका कि क्षय नहीं हो अर्थात जिसका फल नष्ट न हो। अक्षय तृतीया पर किए जाने वाले कार्य व दान-पुण्य व्यर्थ नहीं जाते। अत: हमें किसी भी शुभ काम के लिए यही दिन चुनना चाहिए। यह अति शुभ दिन सभी कार्यों का शुभ फल देता है।

व्यापार के लिए भी यह दिन विशेष रहेगा

18  में यह तिथि 18अ प्रैल, बुधवार को पड़ रही है। मान्‍यता है कि इस दिन विवाह करने वालों का सौभाग्य अखंड बना रहता है। अक्षय तृतीया के दिन मांगलिक कार्य, विवाह, गृह निर्माण, गृह प्रवेश, देव प्रतिष्ठा, व्यापार आरंभ, मुंडन संस्कार आदि का शुभ मुहूर्त है। इसके अलावा व्यापार के लिए भी यह दिन विशेष रहेगा।

इस बार लगभग 11 साल बाद अक्षय तृतीया पर 24 घंटे का सर्वार्थसिद्धि योग का महासंयोग बन रहा है अत: मांगलिक कार्यों के लिए यह समय बहुत खास रहेगा। 18 अप्रैल को तृतीया तिथि 4.47 बजे से शुरू होकर रात 3.03बजे तक रहेगी।

ढली स्कूल की लापता छात्राएं मिली

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams