Virat

गावस्कर की हालिया टिप्पणी पर आया विराट कोहली का बयान

  • कप्तान ने रिजर्व खिलाडिय़ों को आजमाने के फैसले का किया बचाव 
  • कहा, हम सीरीज जीत चुके हैं और खिलाडिय़ों को आजमाना चाहते थे
  • उमेश यादव और मोहम्मद शम्मी की जमकर की तारीफ

एजेंसी। बेंगलुरु

जीत की लय भले ही टूट गई हो, लेकिन कप्तान विराट कोहली को लगता है कि अगर भारतीय टीम घरेलू सफलता को विदेशी मैदानों पर भी दोहरा सके, तो यह मौजूदा टीम सबसे बेहतरीन वन-डे टीम में से एक बन जाएगी। कोहली का यह बयान महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर की हालिया टिप्पणी पर आया है कि मौजूदा टीम इंडिया देश की सर्वश्रेष्ठ वन-डे टीम बन सकती है। टीम इंडिया चौथे वन-डे में ऑस्ट्रेलिया से 21 रन से हार गई। कोहली ने कहा कि लेकिन यह यात्रा काफी लंबी है क्योंकि यह टीम काफी युवा है।

हम इस समय घरेलू मैदान पर खेल रहे हैं। अगर हम इसी फार्म को विदेशी सरजमीं पर भी दोहरा सकें, तो हम आराम से बैठकर खुश हो सकते हैं कि हमने जो अभी तक किया वो अच्छा रहा। ऑस्ट्रेलिया की इस जीत ने भारत की नौ मैचों की जीत की लय को तोड़ दिया। भारतीय टीम अब पांच मैचों की सीरीज में 3-1 से आगे है, जिसका पांचवां और अंतिम वन-डे रविवार को नागपुर में खेला जाएगा। नवंबर 2003 के बाद आठ वन-डे में यह भारत की यहां पहली हार भी थी।

कोहली ने कहा कि यह सब इन प्रक्रियाओं को दोबारा दोहराने तथा बार-बार करने की कोशिश करना

पिछली हार भी उन्हें ऑस्ट्रेलियाई टीम से ही मिली थी। कोहली ने कहा कि यह सब इन प्रक्रियाओं को दोबारा दोहराने तथा इसी चीज को बार-बार करने की कोशिश करना है, ताकि निरंतर होकर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकें। कोहली ने टीम प्रबंधन के रिजर्व खिलाडिय़ों को आजमाने के फैसले का बचाव किया। भारत ने तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह की जोड़ी की जगह उमेश यादव और मोहम्मद शमी को उतारा, लेकिन इसका उन्हें फायदा नहीं मिला और ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए जीत के लिए 335 रन का लक्ष्य दिया।

भारतीय कप्तान ने कहा कि हम सीरीज जीत चुके हैं और आपको कहीं न कहीं खिलाडिय़ों को आजमाना होता है। आपको अपनी बेंच स्ट्रेंथ भी आजमानी होती है और आपको उन्हें मैच देने होते हैं। मुझे लगता है कि उमेश ने काफी अच्छी गेंदबाजी की, शमी भी अच्छे रहे। उमेश ने चार विकेट भी झटके। कोहली ने कहा कि वैकल्पिक रणनीति का कार्यान्वयन ही मैच में सफलता का राज है। उन्होंने कहा, मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं जो बैठकर सोचे कि मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था। आपको कोशिश करनी होती है, कुछ और आजमाना होता है, अगर यह कारगर नहीं होता तो आपको दूसरी योजना बनानी होती है और आपको फिर से इसे इस्तेमाल करना होता है। मैं ऐसा ही सोचता हूं और पूरी टीम भी ऐसा ही सोचती है।

हमने अच्छी बल्लेबाजी नहीं की

बेंगलुरु। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने स्वीकार किया कि उनके बल्लेबाज ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे वन-डे में बेहतर प्रदर्शन कर सकते थे, लेकिन इस हार को एक दिन का खराब प्रदर्शन बताया। कोहली ने कहा कि हम 30वें ओवर तक मैच में थे। मुझे लगा कि हम उन्हें 350 रन पर रोक देंगे, तो अच्छा होगा और हमने वही किया।

उन्होंने कहा कि हमारी शुरुआत अच्छी रही, लेकिन हमें सलामी साझेदारी के बाद एक और अच्छी साझेदारी की जरूरत थी। हमने अच्छी बल्लेबाजी नहीं की। ऐसा होता है। कई बाद दिन अपना नहीं होता।  कोहली ने कहा कि उमेश और शमी ने अच्छी गेंदबाजी की। स्पिनरों का दिन हमेशा अच्छा नहीं होता। ऑस्ट्रेलिया ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। हम उतना खराब भी नहीं खेले लेकिन उनका प्रदर्शन हमसे बेहतर रहा।

 

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams