gautam gambhir

बीसीसीआई या तो पाकिस्तान से पूरी तरह नाता तोड़े या हर स्तर पर खेले

कहा, जवान क्रिकेट के खेल से अधिक अहम

नई दिल्ली
पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश भर में यह मांग उठने लगी थी कि अब भारत को अपने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के साथ सभी तरह के संबंध खत्म कर देने चाहिए। पाकिस्तान के साथ संबंध राजनीतिक ही नहीं खेल समेत हर स्तर पर खत्म होने चाहिए। एक बार फिर यह मांग तेज होने लगी है। पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने आगामी क्रिकेट वल्र्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच न खेलने पर अपना स्टैंड एक बार फिर दोहराया है। गंभीर ने कहा हमें पाकिस्तान से अपना गु्रप मैच ही नहीं बल्कि अगर टूर्नामेंट का फाइनल भी हो, तो वह भी नहीं खेलना चाहिए।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने सोमवार को कहा कि बीसीसीआई या तो पाकिस्तान के साथ सारे क्रिकेट संबंध तोड़ ले या हर स्तर पर उसके साथ खेले क्योंकि सशर्त प्रतिबंध नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि भारत के लिए आईसीसी टूर्नामेंटों में पाकिस्तान का बहिष्कार कर पाना मुश्किल होगा, लेकिन एशिया कप में हम उनसे नहीं खेलें।

गंभीर ने कहा कि पाकिस्तान के साथ हर स्तर पर ताल्लुकात खत्म होने चाहिए भले ही खेल जगत इसका बहिष्कार कर दे। बीसीसीआई ने आईसीसी से अपील की थी कि आतंक को पनाह देने वाले देशों से ताल्लुक तोड़ लिए जाए लेकिन आईसीसी बोर्ड ने दुबई में हुई बैठक में यह अनुरोध खारिज कर दिया। गंभीर ने कहा कि समाज का एक तबका कहता है कि खेलों को राजनीति से नहीं जोडऩा चाहिए लेकिन जवान क्रिकेट के खेल से अधिक अहम हैं।

भारत-पाक विश्व कप मैच को खतरा नहीं : रिचर्डसन

कराची। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के सीईओ डेव रिचर्डसन ने कहा कि विश्व कप में भारत और पाकिस्तान के बहुचर्चित मुकाबले पर उन्हें कोई खतरा नजर नहीं आता, क्योंकि दोनों टीमें आईसीसी अनुबंध से बंधी हैं। उन्होंने कहा कि आईसीसी टूर्नामेंटों के लिए सभी टीमों ने सदस्यों के भागीदारी करार पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसके तहत उन्हें टूर्नामेंट के सभी मैच खेलने होंगे। यदि वे ऐसा नहीं करते हैं, तो खेलने की शर्तों के अनुसार दूसरी टीम को अंक दिए जाएंगे।

पुलवामा में आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के बाद ऐसी मांग की जा रही है कि भारत 16 जून को मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप का मैच नहीं खेले। भारतीय क्रिकेट का संचालन कर रही प्रशासकों की समिति ने भी आईसीसी को पत्र लिखकर मांग की थी कि आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों का बहिष्कार किया जाए।

भारतीय टीम ने रांची में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वन-डे के दौरान भी पुलवामा के शहीदों को श्रृद्धांजलि देने के लिए सेना की विशेष कैप पहनी थी। इसके साथ ही पूरी मैच फीस राष्ट्रीय रक्षा कोष में दे दी थी।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams