News Flash
Gaggal and Waknaghat it park

सरकार ने तैयार किया खाका, जल्द साइन होगा एमओयू

सिंगापुर की कंपनी करेगी निर्माण

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला

प्रदेश के गगल और वाकनाघाट में आईटी पार्क न्यू आईटी पॉलिसी के तहत तैयार होंगे। इसके लिए प्रदेश सरकार ने पूरा खाका तैयार कर लिया है। बीते 25 अक्तूबर को कैबिनेट ने नई आईटी पॉलिसी को मंजूरी दी। उसके बाद ही सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने रूपरेखा तैयार कर दी है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक वाकनाघाट से पहले गगल में आईटी पार्क तैयार होना है। सिंगापुर की एक आईटी कंपनी गगल आईटी पार्क का निर्माण करेगी। आईटी पार्क के लिए जो जमीन चिह्नित की गई है। वहां से एयरपोर्ट काफी नजदीक है। हाल ही में सिंगापुर की टीम ने चिन्हित क्षेत्र का दौरा भी किया और टीम को यह जगह पसंद आ गई है। जल्द ही इसको लेकर अब एमओयू साइन किया जाएगा।

Gaggal and Waknaghat it park

राज्य सरकार ने इस पार्क के निमार्ण के लिए 29 करोड़ के बजट का प्रावधान किया हुआ है। अब सिंगापुर की कंपनी आईटी पार्क के निर्माण के लिए आगे आई है, ऐसे में यहां पर जल्द निर्माण कार्य शुरू होगा। प्राप्त जानकारी के मुताबिक गगल में आईटी पार्क के लिए 26 बीघा जमीन चयनित की गई है। यह जमीन सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के नाम ट्रांसफर भी हो चुकी है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक पांच बीघा जमीन पर एसटीपीआई यानी सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क आफ इंडिया काम करेगा। वहीं सोलन के वाकनाघाट में प्रदेश का तीसरा आईटी पार्क बनना तय है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2004 में तत्कालीन वीरभद्र सरकार ने वाकनाघाट में आईटी विभाग को विकसित करने के लिए 331 बीघा जमीन देखी थी, लेकिन 15 साल बीतने के बाद अब जयराम सरकार इस जमीन को निजी क्षेत्र में निवेश करने की सोच रही है। जहां पर आने वाले समय में आईटी पार्क स्थापित की जाएगी। आईटी विभाग की इस जमीन को विकसित करने के लिए सबसे पहले सड़क, बिजली व पानी के लिए विकास करना है जो नहीं हो पाया। करीब 15 वर्षों से लावारिस इस जमीन को विकसित करने के लिए कम से कम 80 करोड़ की राशि चाहिए।

Gaggal and Waknaghat it park

इस तरह की मिलेगी सुविधा

आईटी पार्क में निवेशकों को हाई स्पीड डाटा सेंटर कि सुविधा उपलब्ध होगी। आईटी उद्योग के लिए विश्व स्तर की बुनियादी ढांचा विकसित किया जाएगा। इसके साथ-साथ कॉल सेंटर से लेकर डाटा ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य की मिलेगी सुविधा। निवेशक इस पार्क में कॉल सेंटर खोलने से लेकर ब्लॉगिंग तक का कार्य आसानी से कर सकेंगे। इसके अलावा यहां पर आईटी से संबंधित सभी तरह के व्यवसाय शुरु करने की सुविधा प्रदान की जाएगी। निवेशक यहां पर डाटा ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेयर से संबंधित किसी भी तरह का काम कर सकेंगे। इससे लोगों के लिए रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

प्रधान सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी जेसी शर्मा ने बताया कि सिंगापुर की एक आईटी कंपनी गगल आईटी पार्क का निर्माण करेगी। आईटी पार्क के लिए जो जमीन चिह्नित की गई है। वहां से एयरपोर्ट काफी नजदीक है। जल्द ही इसको लेकर अब एमओयू साइन किया जाएगा।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]