whatsapp

सोशल मीडिया कंपनी खड़ी कर रहा टीम

नई दिल्ली
फर्जी खबरों को लेकर आलोचना झेल रही सोशल मीडिया कंपनी व्हॉट्सऐप ने सरकार से कहा कि वह इस समस्या से निपटने के लिए भारत में एक स्थानीय टीम खड़ी कर रही है, जिसका प्रमुख कोई भारतीय हो सकता है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने यह भी कहा कि सोशल नेटवर्किंग कंपनी ने फर्जी संदेश की शुरुआत करने वालों की पहचान बताने की सरकार की मांग पर सहमति नहीं जताई है और उसका कहना है कि ऐसा करने से निजी संदेशों के एक मंच के रूप में व्हॉट्सऐप का निजी स्वरूप प्रभावित होगा।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि व्हॉट्सऐप ने सरकार के पिछले नोटिस का जवाब भेजा है। उसमें कंपनी ने अपने नेटवर्क पर फर्जी खबरों के प्रसार पर अंकुश लगाने के उपायों की जानकारी देने के साथ-साथ लोगों को शिक्षित करने और जागरूक करने के लिए किए अपने प्रयासों का उल्लेख किया है।

अधिकारी ने कहा कि व्हॉट्सएप भारत में ही अपनी एक टीम खड़ी करने में लगी है। अधिकारी ने यह भी कहा कि कंपनी के यह उपाय सरकार की अपेक्षा के अनुरूप नहीं है क्योंकि सरकार चाहती है कि ऐसे संदेशों के मूल स्त्रोत का पता लगाया जाए और उसकी पहचान बताई जाए।

मिलकर काम करना होगा

हाल में भीड़ द्वारा लोगों को पीट-पीटकर मारे जाने की कुछ घटनाओं में व्हॉटसऐप संदेशों की भूमिका के बारे में कंपनी का मानना है कि भीड़ के हमलों की समस्या से निपटने के लिए सरकार, समाज और तकनीकी कंपनियों को साथ मिलकर काम करना होगा। कंपनी ने कहा कि इसीलिए हम पहले ही अपनी सेवाओं में काफी बदलाव कर चुके हैं ताकि भ्रामक सूचनाओं के प्रसार की गति को धीमा किया जा सके।

हम लोगों को यह भी समझा रहे कि फर्जी खबरों की पहचान कैसे की जा सकती है। व्हाट्सऐप के मुख्य परिचालन अधिकारी मैट इडेमा हाल फिलहाल में भारत आए थे और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधिकारियों से मिले थे।

यह भी पढ़ें – बरशैणी में बादल फटा, पुल बहा

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams