News Flash
indians waiting help

कैलाश मानसरोवर – खराब मौसम के चलते तीर्थयात्रियों की मुश्किले बढ़ीं

काठमांडू
तिब्बत में कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्रा से लौट रहे भारतीय श्रद्धालुओं की मुसीबतें अब भी खत्म नहीं हुई है और खराब मौसम के बीच नेपाल के पर्वतीय क्षेत्र में फंसे कम से कम 1000 श्रद्धालुओं का वहां से निकलने का इंतजार जारी है। नेपाल में भारतीय दूतावास ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्रा से लौटते समय भारी बारिश के कारण फंसे लोगों को निकालने के प्रयास तेज कर दिए हैं। हिल्सा से वीरवार को 250 भारतीय तीर्थयात्रियों को निकाला गया।

नेपाल में भारतीय दूतावास ने एक ट्वीट कर कहा कि पांच जुलाई की सुबह तक 10 वाणिज्यिक विमान 143 तीर्थयात्रियों को सिमीकोट से नेपालगंज लेकर गए। दूतावास ने ट्वीट में कहा कि भारतीय दूतावास की आधिकारिक गणना के मुताबिक , सिमीकोट में 643 और हिल्सा में 350 लोग फंसे हुए हैं। किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। इसका उल्लेख किया जाता है कि संसाधनों के अभाव वाले हिल्सा में फंसे तीर्थयात्रियों की संख्या में काफी कमी आई है।

विदेश मंत्रालय ने जारी किया अलर्ट

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने नेपाल के जरिए कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने की योजना बना रहे श्रद्धालुओं के लिए एक परामर्श जारी कर कहा कि खराब मौसम की स्थिति में मार्ग में कई जगह फंसने की आशंका है। नेपाल के जरिए कैलाश मानसरोवर यात्रा के नेपालगंज-सिमिकोट-हिलसा मार्ग पर हाल में खराब मौसम और इसके बाद एक हफ्ते से ज्यादा समय तक श्रद्धालुओं के फंसे रहने के मामले को देखते हुए परामर्श जारी किया गया है।

परामर्श में कहा गया है कि यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को ध्यान रखना चाहिए कि नेपाल में सिमिकोट और हिलसा बाकी दुनिया से केवल छोटे विमानों और हेलिकॉप्टर के जरिए हवाई मार्ग से ही जुड़े हैं।परामर्श के मुताबिक, दुर्गम और खतरनाक घाटी होने के कारण इन छोटे विमानों और हेलिकॉप्टरों का परिचालन तब हो पाता है जब इन स्थानों और पास के इलाके में मौसम पूरी तरह साफ हो।

यह भी पढ़ें – अब फिक्स्ड लाइन ब्राडबैंड सेवा शुरू करेगी रिलायंस जियो

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams