News Flash
Fierce tsunami by volcanic eruption in Indonesia

२२२ की मौत, सैकड़ों घायल, कई लापता , इंडोनेशिया में भयंकर सुनामी ने मचाही तबाही ,  पर्यटक बीच और तटवर्ती इलाकों में भारी तबाही 

जकार्ता। इंडोनेशिया के सुंडा जलडमरूमध्य में शनिवार रात ज्वालामुखी फटने के बाद आई सुनामी में 222 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों अन्य घायल बताए जा रहे हैं। सुनामी ने कई पर्यटक बीच और तटवर्ती इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया और भारी तबाही मचाई। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया कि आपदा में ८४३ से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है व कम से कम 30 लोग लापता हैं।

इंडोनेशिया के सुंडा जलडमरूमध्य में शनिवार रात ज्वालामुखी फटने के बाद आई सुनामी में 222 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों अन्य घायल बताए जा रहे हैं। सुनामी ने कई पर्यटक बीच और तटवर्ती इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया और भारी तबाही मचाई। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया कि आपदा में ८२३ से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है और कम से कम 30 लोग लापता हैं। एजेंसी ने बताया कि क्राकाटोआ ज्वालामुखी फटने के बाद शनिवार को स्थानीय समयानुसार रात 9:27 बजे दक्षिणी सुमात्रा और पश्चिमी जावा के पास समुद्र की ऊंची लहरें तटों को तोड़कर आगे बढ़ीं जिससे अनेक मकान नष्ट हो गए।लोगों को बचाने के लिए खोज और बचाव का काम तेज कर दिया गया है।

सुनामी के समय कारिता बीच पर मौजूद मोहम्मद बिनतांग ने बताया कि अचानक तेज लहरें उठने लगीं और अंधेरा छा गया। पंद्रह वर्षीय बिनतांग ने कहा,कि हम रात करीब नौ बजे यहां आए थे कि अचानक तेज लहरें उठने लगीं, अंधेरा छा गया और बिजली चली गई। सुनामी का सबसे ज्यादा प्रभाव जावा के बांतेन प्रांत के पांडेंगलांग क्षेत्र में पड़ा है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुर्वाे नुग्रोहो ने कहा कि अब तक आपदा में 168 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है और अन्य 30 लोग लापता हैं तथा 745 लोग घायल हुए हैं।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बयां किया सुनामी का मंजर

प्रत्यक्षदर्शियों ने सुनामी का मंजर सोशल मीडिया पर बयां किया है। ओयस्टीन एंडरसन ने फेसबुक पर लिखा तट से गुजरते समय लहरों की ऊंचाई 15 से 20 मीटर थी, जिसकी वजह से हमें तट से भागना पड़ा। उसने कहा कि वह ज्वालामुखी की तस्वीरें ले रहा था कि अचानक तेज गति से आती एक बड़ी लहर दिखी। एंडरसन ने लिखा, दूसरी लहर एक होटल में घुसी जहां हम रुके हुए थे। मैं परिवार के साथ किसी तरह जंगल और गांव के रास्ते बचने में कामयाब रहा, फिलहाल स्थानीय लोग हमारी देखभाल कर रहे हैं, शुक्र है कि हम सुरक्षित हैं।

पूर्णिमा का चंद्रमा भी एक कारण

इंडोनेशिया की मौसम विज्ञान और भूभौतिकी एजेंसी के वैज्ञानिकों ने कहा कि अनाक क्राकाटाओ ज्वालामुखी के फटने के बाद समुद्र के नीचे भूस्खलन सुनामी का कारण हो सकता है। उन्होंने लहरों के उफान का कारण पूर्णिमा के चंद्रमा को भी बताया। इंडोनेशिया की भूगर्भीय एजेंसी सुनामी की असली वजह पता लगाने में जुटी है।

नेपाल में 4.7 तीव्रता का भूकंप, कोई नुकसान नहीं

काठमांडू। नेपाल के सिंधुपालचौक जिले में रविवार तड़के 4.7 तीव्रता का भूकंप आया। इससे लोगों में दहशत फैल गई। नेपाल के राष्ट्रीय भूकंपीय विभाग के मुताबिक भूकंप का झटका सिंधुपालचौक जिले में सुबह पांच बजकर छह मिनट पर महसूस किया गया। यह राजधानी काठमांडू से करीब 80 किलोमीटर दूर है। भूकंप का झटका काठमांडू में भी महसूस किया गया। बहरहाल, जान-माल के नुकसान की कोई रिपोर्ट नहीं है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams