News Flash

सूरज को छूने निकला यान

वॉशिंगटन। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सूरज पर अपना पहला मिशन पार्कर सोलर प्रोब रवाना कर दिया है। एक गाड़ी के आकार का यह अंतरक्षियान सूरज की सतह के सबसे करीब 40 लाख मील की दूरी से गुजरेगा। इससे पहले किसी भी अंतरिक्षयान ने इतना ताप और इतनी रोशनी का सामना नहीं किया है।

इस मिशन का उद्देश्य यह जानना है कि किस तरह ऊर्जा और गर्मी सूरज के चारों ओर घेरा बनाकर रखती है। इससे पहले शनिवार को पार्कर सोलर प्रोब को लांच करना था, लेकिन तकनीकी खामी की वजह से लांचिंग को टाल दिया था। केप केनेवरल स्थित प्रक्षेपण स्थल से डेल्टा-4 रॉकेट के जरिए इस यान को अंतरिक्ष रवाना किया गया। यह यान अगले 7 सालों में सूरज के 7 चक्कर लगाएगा। धरती और सूरज के बीच औसत दूरी 9 करोड़ 30 लाख मील है। यह मिशन सूरज के वायुमंडल जिसे कोरोना कहते हैं, का विस्तृत अध्ययन करेगा। इस स्पेसक्राफ्ट को भेजने का उद्देश्य सूर्य के नजदीक के वातावरण, उसके स्वभाव और कार्यप्रणाली को समझना है। यह मिशन 7 साल तक सूरज के वातावरण को जानने की कोशिश करेगा।

इस प्रोजेक्ट पर नासा ने 103 अरब रुपये खर्च किए हैं। यह यान 9 फीट 10 इंच लंबा है और इसका वजन 612 किलोग्राम है। इस यान को बेहद शक्तिशाली हीट शील्ड से सुरक्षित किया गया है, ताकि यह सूरज के पास ताप को झेल सके और धरती की तुलना में 500 गुना ज्यादा रेडिएशन झेल सके। यह कार्बन शील्ड 11.43 सेंटी मीटर मोटी है। इस मिशन का नाम अमेरिकी सौर खगोलशास्त्री यूजीन नेवमैन पार्कर के नाम पर रखा गया है। पार्कर ने ही 1958 में पहली बार अनुमान लगाया था कि सौर हवाएं होती हैं। यह मिशन जब सूरज के सबसे करीब से गुजरेगा तो वहां का तापमान 2500 डिग्री सेल्सियस तक होगा। नासा के मुताबिक, अगर सबकुछ ठीक रहा तो यान के अंदर का तापमान 85 डिग्री सेल्सियस तक रहेगा। यह यान सूरज के वायुमंडल कोरोना से 24 बार गुजरेगा।

11 लाख लोगों के नाम भी सूरज तक पहुंचेंगे: इस यान के साथ करीब 11 लाख लोगों के नाम भी सूरज तक पहुंचेंगे। इसी साल मार्च में नासा ने अपने ऐतिहासिक मिशन का हिस्सा बनने के लिए लोगों से नाम मंगाए थे। नासा ने बताया था कि मई तक करीब 11 लाख 37 हजार 202 नाम उन्हें मिले थे, जिन्हे मेमरी कार्ड के जरिए यान के साथ भेजा गया है। इससे पहले हेलियोस 2 यान सूरज के सबसे नजदीक से गुजरा था। साल 1976 में यह यान सूरज के करीब 4 करोड़ 30 किलोमीटर पास तक गया था।

मिशन के पीछे भारतीय: नई दिल्ली। साठ साल पहले अगर भारतीय-अमेरिकी खगोल भौतिकशास्त्री सुब्रमण्यम चंद्रशेखर ने सौर पवन के अस्तित्व के प्रस्ताव वाले शोधपत्र का प्रकाशन अपने जर्नल में करने का साहस न दिखाया होता तो सूर्य को स्पर्श करने के पहले इंसानी मिशन की मौजूदा शक्ल शायद कुछ और ही होती। सौर पवन सूर्य से बाहर वेग से आने वाले आवेशित कणों या प्लाज्मा की बौछार को नाम दिया गया है। ये कण अंतरिक्ष में चारों दिशाओं में फैलते जाते हैं। इन कणों में मुख्यत: प्रोटॉन और इलेक्ट्रॉन (संयुक्त रूप से प्लाज्मा) से बने होते हैं जिनकी ऊर्जा लगभग एक किलो इलेक्ट्रॉन वोल्ट (केईवी) हो सकती है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams