News Flash
Space Force

अंतरिक्ष में रूस और चीन से खतरे को देखते हुए ट्रम्प ने दिए आदेश

एजेंसी। वॉशिंगटन : अमेरिका अंतरिक्ष में अपना दबदबा कायम करने के लिए स्पेस फोर्स का गठन करेगा। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पेंटागन को स्पेस फोर्स तैयार करने का आदेश भी दे दिया है।

ट्रम्प का कहना है कि यह फैसला अमेरिका की निजी सुरक्षा को देखते हुए लिया गया है। लेकिन अमेरिकी मीडिया का कहना है कि ट्रम्प ने यह फैसला अंतरिक्ष में रूस और चीन के बढ़ते खतरे को देखते हुए लिया है। अमेरिका का कहना है कि वह स्पेस फोर्स बनाने वाला पहला देश होगा। हालांकि, रूस के पास भी ऐसी ही फोर्स है, जिसका बाद में उसने एयरफोर्स में विलय कर दिया था।

डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रीय अंतरिक्ष परिषद में कहा कि जब अमेरिका की रक्षा करने की बात आती है तो अंतरिक्ष में केवल हमारी मौजूदगी ही काफी नहीं है। अंतरिक्ष में भी अमेरिका का दबदबा होना चाहिए। इसलिए मैंने पेंटागन को स्पेस फोर्स तैयार करने का आदेश दिया है। अमेरिका की एयरफोर्स की तरह ही स्पेस फोर्स होगी। लेकिन यह उससे अलग होगी। ट्रम्प ने कहा कि पूरी दुनिया की नजरें हम पर हैं, अमेरिका फिर से सम्मानित हो रहा है। स्पेस फोर्स की योजना से न सिर्फ रोजगार मिलेगा, बल्कि देश के नागरिकों का हौसला भी बढ़ेगा।

अमेरिकी सेना की छठी शाखा होगी यह फोर्स

अमेरिका के पास आर्मी, एयरफोर्स, मरीन, नेवी और कोस्ट गार्ड हैं। माना जा रहा है कि अमेरिका इस फोर्स के साथ भविष्य में अंतरिक्ष में लड़ी जाने वाली किसी भी लड़ाई के लिए तैयारी कर सकेगा। स्पेस ऑपरेशन में निगरानी के लिए इस फोर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है।

अंतरिक्ष में चीन-रूस के दखल से चिंतित

द वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, अंतरिक्ष में रूस और चीन ऐसी तकनीक और हथियारों को विकसित कर रहे हैं जो अमेरिकी सैटेलाइट्स से निपट सकें। इन दोनों देशों के अंतरिक्ष में बढ़ते दखल के मद्देनजर पेंटागन भी चिंतित है। यही वजह है कि ट्रम्प ने स्पेस फोर्स बनाने का आदेश दिया है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams